Thursday, October 13, 2016

क्राईम ब्रांच एनआईटी ने 2 गैगस्टरों को दबोचकर अवैध हथियार किए बरामद




फरीदाबाद(abtaknews.com ) रमेश पाल पुलिस उपायुक्त एन0आई0टी0 ने प्रैस को सम्बोधित करते हुये बतलाया कि दिनांक 13.10.16 को क्राइम ब्रांच एन0आई0टी0 प्रभारी अनिल छिल्लर की टीम ए.एस.आई. असरूद्वीन, ई.ए.एस.आई. हरीश, एच.सी. भूपेन्द्र सोनी, सिपाही अमित कुमार ने दीपक पंडित गैग के चन्द्र प्रकाश पुत्र दुर्जन सिहं निवासी मकान न0 बी.872 संगम बिहार दिल्ली व आश मौहम्मद पुत्र स्व0 मौहम्म्द यूनिस निवासी मकान न0 ए.80 संगम बिहार नई दिल्ली को प्रहलादपुर रोड सूरजकुण्ड गोल चक्कर से भारी मात्रा में अवैध हथियारों सहित गिरफ्तार किया।

 उपरोक्त आरोपीयों से सख्ती से पूछताछ करने पर बतलाया कि दोनों अरोपी दिल्ली के गैगस्टर दीपक पंिडत की गैग के सदस्य है और वर्ष 2004 से मर्डर केस में उम्र कैद की सजा काट रहे थे। जो करीब 2/3 महीने पहले ही जेल से बाहर आये थे। गैगस्टर दीपक पंडित की दुश्मनी दुसरी गैग लीडर गंगवाल से है। क्योकि दीपक पंडित व दुसरे गैग लीडर रवि गंगवाल दिल्ली के एरिया में सटटा बाजार और गांजा के धंधे पर अपना-अपना एकछत्र राज करना चाहते थे।

दीपक पंडित ने जेल से ही अपने किसी साथी के माध्यम से उपरोक्त आरोपीायों को हथियार उपलब्ध करवाये थे। उपरोक्त दोनों आरोपीयों ने खुलासा किया कि रवि गंगवाल को अस्पताल या फिर साकेत कोर्ट में मारने का प्लान था क्योकि जिस जेल में रवि गंगवाल बंन्द है वहा उसे व उसके दुसरे साथियों दीपक पंडित के साथी जो लडाई कर जेल में घायल कर देंगे और वो ईलाज के लिए अस्पताल में भर्ती होगा तब रवि गंगवाल व उसके साथीयों का मर्डर का प्लान था और वहा से फरार होकर रवि गंगवाल के दुसरे साथीयों को भी मारने का प्लान था जो बाहर से रवि गंगवाल केा सपोर्ट कर रहे थे। रवि गंगवाल ने उपरोक्त आरोपी आश मौहम्मद की बहन की हत्या भी इसी गैगवार में कर दी थी और जेल के अन्दर दुसरे आरोपी चन्द्र प्रकाश के ऊपर भी रवि गंगवाल ने हमला किया था तो आरोपी आश मौहम्मद ने चन्द्रप्रकाश को बचाया था जिससे दोनो पक्के साथी बन गये  और गैगस्टर दीपक पंडित इनके साथ था और गैगस्टर रवि गंगवाल की पूरी गैग का सफाया करने का प्लाटन था।
            आरोपीयों के कब्जे से पाच पिस्टल, एक रिवाल्वर, एक देशी कटटा व 46 जिन्दा कारतूस बरामद कर आरोपीयों को पेश अदालत कर जेल भेज दिया गया है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: