Sunday, October 16, 2016

हरियाणा सफाई कर्मचारी आयोग का जल्द होगा गठन:- मनोहर लाल



चण्डीगढ़, 15 अक्तूबर(abtaknews.com ) हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने महर्षि वाल्मीकि जयंती की पूर्व संध्या पर आयोजित राज्य स्तरीय समरसता समारोह में हरियाणा सफाई कर्मचारी आयोग का गठन करने के साथ- साथ सफाई कर्मचारियों के लिए अनेक घोषणाएं कर वाल्मीकि समाज को दीपावली का एक अनूठा उपहार दिया है। मुख्यमंत्री ने ये घोषणाएं आज जीन्द के सैक्टर-9 के खेल स्टेडियम में भगवान वाल्मीकि प्रकट दिवस पर आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए की।  

इन घोषणाओं में सरकारी विभागों में अनुसूचित बैकलॉग को 6 माह में पूरा करने के लिए विशेष भर्ती अभियान चलाने, आउटर्सोिर्संग के तहत की जाने वाली भर्तियों मेें सरकार की तर्ज पर दी जा रही आरक्षण पद्धति लागू करवाना, ग्रामीण क्षेत्रों में आगामी दो महीने में एक हजार नये सफाई कर्मचारी भर्ती करने, सफाई कर्मचारियों को आवश्यक औजार व वर्दी उपलब्ध करवाने, सफाई कार्यों की परियोजनाओं के ठेके आंबटन में 50 प्रतिशत वाल्मीकि समुदाय के लिए आरक्षित करने, सर्वोच्च न्यायालय में चल रहे अनुसूचित जाति ए व बी के समायोजन करने के मामले की जोरदार ढंग से पैरवी करवाना तथा वाल्मीकि समाज के स्वतंत्रता सेनानी व सुभाषचन्द्र बोस की भारतीय राष्ट्रीय सेना (आई.एन.ए.) के सिपाही स्व० दयानंद मायना के नाम से वार्षिक पुरस्कार स्थापित करना शामिल हैं। 

सके अलावा मुख्यमंत्री ने जींद के सैक्टर-9 में नवनिर्मित खेल स्टेडियम का नाम एकलव्य रखने, करनाल व बराड़ा में निर्माणाधीन वाल्मीकि भवन के लिए अपने स्वैच्छिक कोटे से 21-21 लाख रूपए देने की घोषणा के अलावा केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह  की ओर से नरवाना में वाल्मीकि भवन के लिए 21 लाख रूपए उपलब्ध करवाने की घोषणा भी मुख्यमंत्री ने की। उन्होंने गत वर्ष वाल्मीकि जयंती के अवसर पर कैथल में आयोजित समारोह में महर्षि वाल्मीकि के नाम से मुंदड़ी में स्थापित किए जा रहे संस्कृत विश्वविद्यालय का काम अति शीघ्र आरम्भ करवाने का आश्वासन भी दिया। 

वाल्मीकि समाज को एक स्वाभिमानी समाज बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज का समारोह भी इस बात को प्रमाणित करता है कि इस कार्यक्रम में भी इसके संयोजक व हरियाणा सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री कृष्ण बेदी ने कोई मांग पत्र नहीं रखा, अन्यथा ऐसे समारोह में आमतौर पर मुख्यमंत्री के समक्ष हलके की मांगे रखी जाती हैं। मुख्यमंत्री ने उपस्थित लोगों से आग्रह किया कि वे अनुसूचित जाति व  पिछड़े वर्ग के लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं का लाभ अवश्य लें। उन्होंने मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना के तहत अनुसूचित जाति के परिवारों को दी जाने वाली 41 हजार रूपए की वित्तीय सहायता, बीपीएल परिवारों की विधवाओं की बेटियों की शादी पर दी जाने वाली 51 हजार रूपए, अंर्तजातीय मुख्यमंत्री सामाजिक समरसता अंर्तजातीय विवाह शगुन योजना के अंतर्गत दी जाने वाली एक लाख रूपए की राशि तथा अन्य योजनाओं की जानकारी भी उपस्थित लोगों को दी तथा उन्हें इन योजनाओं का लाभ उठाने को कहा। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह की मांग पर अनुसूचित जाति के लोगों के लिए वृद्धावस्था सम्मान भत्ता योजना की आयु सीमा 60 वर्ष से घटाकर 55 वर्ष की करने पर कहा कि यह पहले ही सरकार के विचाराधीन है और इस पर सकारात्मक निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने वृद्धावस्था सम्मान भत्ता अपने चुनावी घोषणा-पत्र के अनुरूप एक हजार रूपए से बढ़ाकर दो हजार रूपए करने के वायदे के अनुरूप अगले वर्ष एक जनवरी से इसे 1400 रुपए से बढ़ाकर 1600 रूपए करने का आश्वासन भी दिया।   

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह संयोग की बात है कि भगवान वाल्मीकि प्रकटोत्सव भी शरद पूर्णिमा के दिन पड़ता है और जिस प्रकार शरद पूर्णिमा के दिन चन्द्रमा अपनी 16 प्रकार की विशेष किरणों से समाज की खुशहाली को प्रतीक करता है ठीक उसी प्रकार हजारों वर्षो पहले महर्षि वाल्मीकि ने अपने महाकाव्य  के माध्यम से कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार को बने हुए अभी केवल दो वर्ष हुआ है और दो वर्ष में सरकार की कार्य प्रणाली को समझा है और विकास की योजनाएं तैयार की है जिन्हें क्रियान्वित किया जा रहा हैं। उन्होंने कहा कि अगला वर्ष सरकार रोजगार वर्ष के रूप में मनाएगी, जिसके तहत सरकारी विभागों के अलावा प्राईवेट क्षेत्र, काम के आधार पर रोजगार, स्व-रोजगार तथा परम्परागत हुनर के अनुरूप युवाओं को रोजगार उपलब्ध करवाने की योजनाएं चलाई जाएगीं। उन्होंने कहा कि आज हरियाणा में 5 लाख से अधिक पढ़े लिखे बेरोजगारों की संख्या है जिनकों रोजगारपरक बनाना सरकार की प्राथमिकता रहेगी। श्री मनोहर लाल ने कहा कि यह वर्ष महान चिंतक प0 दीनदयाल उपाध्याय का जन्म शताब्दी वर्ष है और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने इस वर्ष को गरीब कल्याण वर्ष के रूप में मनाने की घोषणा की हैं, हरियाणा में भी यह वर्ष गरीबों को समर्पित हैं। 

समारोह को केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेन्द्र सिंह ने सम्बोधित करते हुए कहा कि आज हरियाणा में अनुसूचित जाति के लोगों की संख्या अधिक है और अगर दलित समाज राजनीति रूप से संगठित होकर चले तो वे सरकार का बनना तय करते हैं। उन्होंने कहा कि राजनीति में पिछले 45 वर्षो से है परंतु पहले की सरकारों ने गरीबी हटाओं और समान अधिकार दिलाने का वायदा तो गरीब लोगों से किया परंतु वास्तव में उन्होंने इस समाज का उपयोग केवल मात्र वोट बैंक  के लिए किया। उन्होंने कहा कि सरकार को मन बनाकर दलित समुदाय के लोगों के हित में कार्य करना होगा और उन्हें वित्तीय रूप से सुदृढ करना होगा तभी हम गरीबी के भेदभाव को मिटा सकते हैं। केन्द्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि वे सेना की सिख लाईट इंफैंटरी में वाल्मीकि समुदाय को भी भर्ती किया जाए। इसके लिए रक्षामंत्री के समक्ष मामला उठाया जाए। इसके अलावा उन्होंने शराब के ठेकों के आबंटन में अनुसूचित जाति व पिछड़े वर्गो के लिए भी कुछ प्रतिशत आरक्षित करने की मांग भी की।  

वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ,कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री ओमप्रकाश धनखड़, परिवहन मंत्री श्री कृष्ण लाल पंवार, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री कृष्ण कुमार बेदी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व विधायक श्री सुभाष बराला, सांसद श्री रमेश कौशिक , मुख्य संसदीय सचिव श्री बक्शीश सिंह विर्क, विधायक श्री बिशम्बर वाल्मीकि, श्रीमती संतोष चौहान सारवान, हरियाणा अनुसूचित जाति पिछड़ा वर्ग वित्त विकास निगम की चेयरपर्सन श्रीमती सुनीता दुग्गल, पूर्व विधायक श्री बंताराम वाल्मीकि, भाजपा के अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री रामअवतार वाल्मीकि ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर खाद्य एवं आपूर्ति राज्यमंत्री श्री कर्णदेव कम्बोज, विधायक श्रीमती प्रेमलता, डा. पवन सैनी, श्री जसबीर देशवाल, बीजेपी के प्रदेश सचिव श्री जवाहर सैनी, जिला अध्यक्ष श्री अमरपाल राणा, श्रीमती पुष्पा तायल, श्रीमती सुमन बेदी, श्री संदीप गोस्वामी, डा. राजसैनी, श्री ओपी पहल, श्री रामफल शर्मा, श्री हरेन्द्र डूमरखां, श्री सत्यवान ढिलौड़, श्री ताराचंद बलियाली, श्री पुरूषोत्तम शर्मा, पूर्व सांसद श्री सुरेन्द्र बरवाला भी उपस्थित थे। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: