Saturday, October 1, 2016

एबीवीपी प्रदेश छात्रा प्रमुख से चैन स्नैचिंग, पुलिस आयुक्त निवास के सामने की घटना, पुलिस कार्यशैली से भन्नाई छात्र नेत्री


 

फरीदाबाद 1 अक्टूबर(abtaknews.com ) फरीदाबाद में पुलिस कितनी मुस्तैद है और महिलाएं कितनी सुरक्षित है, इसकी एक और बानगी उस समय देखने को मिली, जब पुलिस आयुक्त के कार्यालय और निवास के पास अखिल भारतीय विधार्थी परिषद की प्रदेश छात्रा प्रमुख मीनू गोदारा के साथ न केवल छेडछाड की गई, बल्कि आरोपी उसकी सोने की चैन लूटकर पैदल ही फरार हो गया। पीडि़त युवती बार-बार पुलिस कंट्रोल रूम से लेकर महिला हैल्प लाइन पर फोन करती रही। लेकिन कोई मदद के लिए नहीं पंहुचा। पुलिस आयुक्त को फोन करने के बाद अनखीर पुलिस चौकी से दो पुलिस कर्मी मौके पर पंहुचे और अपना क्षेत्र न बताकर चले गए। इस दौरान कोई भी महिला पुलिस कर्मी साथ नहीं थी, जिसे युवती अपने साथ बीती घटना के बारे में बता सकें। इस घटना के बाद प्रदेश छात्रा प्रमुख मीनू गोदारा का अब पुलिस के उपर से विश्वास उठ चुका है। 

सेवा-सुरक्षा और सहयोग का नारा देने वाली फरीदाबाद पुलिस महिलाओं की सुरक्षा का दम भरती रहती है और रोजाना नए-नए ऐप और संगोष्ठी करती है। महिला थाने से लेकर महिला हैल्प लाइन तक खोले गए है। लेकिन किसी युवती के साथ कोई घटना घटित होने पर सब बेकार ही नजर आते है। ऐसा ही कुछ एबीवीपी के प्रदेश छात्रा प्रमुख मीनू गोदारा के साथ उस समय हुआ, जब वह सैक्टर-21 के एक अस्पताल में उपचाराधीन अपनी मां के लिए जूस लेने के लिए पुलिस आयुक्त कार्यालय के पास आई थी। तभी एक व्यक्ति ने पहले उसके साथ बदतमीजी की और फिर उसके गले से सोने की चैन खीचकर पैदल ही फरार हो गया। पुलिस आयुक्त कार्यालय और पुलिस आयुक्त निवास के पास हुई इस घटना ने पुलिस मुस्तैदी की पोल खोलकर रख दी है। 

पीडि़ता मीनू गोदारा ने अबतक न्यूज़ पोर्टल को बताया कि उसके साथ घटना होने के बाद उसने कई बार पुलिस कंट्रोल रूम को फोन किया, लेकिन वह व्यस्त रहा। फिर उसने महिला हैल्प लाइन पर फोन किया तो वहां से भी उसे कोई संतोष जनक जबाव नहीं मिला। इसके बाद उसने पुलिस आयुक्त को फोन किया तो अनखीर पुलिस चौकी से दो पुलिस कर्मी 45 मिनट बाद मौके पर आए और पूछताछ करने के बाद यह कहकर चले गए कि यह एरिया उनका नहीं है। काफी जदोजहद के बाद सैक्टर-21 की पुलिस आई और फिर एरिया अनखीर चौकी का ही निकला। पूरे वाक्ये के दौरान पुलिस कर्मी केवल पीडि़ता से ही बात करते रहे और किसी ने भी अपराधी को पकडऩे की  जरूरत तक नहीं समझी। एबीवीपी की प्रदेश छात्रा प्रमुख मीनू गौदारा का कहना है कि वह समझती थी कि फरीदाबाद में महिलाएं सुरक्षित है। लेकिन यहां तो घटना के पोने घंटे बाद भी पुलिस मौके पर नहीं पंहुचती है। 

वहीं प्रत्यक्षदर्शी जूस वाले का कहना है कि मेडम चिल्ला रही थी और एक व्यक्ति भाग रहा था। उसे पता नहीं था कि क्या हुआ। 
वहीं पुलिस का कहना है कि मीनू गोदारा की शिकायत पर मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी गई है। वहीं पुलिस यह मानने से इंकार कर रही है कि सूचना मिलने के पोने घंटे बाद मौके पर पंहुची थी। वहीं उन्होंने इस पूरे मामले में महिला पुलिस को बुलाना भी जरूरी नहीं समझा। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: