Tuesday, October 18, 2016

एजे कंपनी से निकाले मजदूरों ने चेताया हमारी दीवाली नहीं तो तुम्हारी भी नहीं मनने देंगे



फरीदाबाद, 18 अक्टूबर(abtaknews.com ) सीआईटीयू के जिला प्रधान निरन्तर पाराशर ने कहा कि पायन प्रिसीजन एवं ए.जे. फैक्ट्री के मजदूरों के साथ हो रहे अन्याय को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। यूनियन दोनों कारखानों के मालिकों की हठीधर्मी के विरोध में आन्दोलन को तेज करेगी। पाराशर आज मंगलवार को उप श्रम आयुक्त के कार्यालय सम्मुख बेमियादी धरने पर बैठे हुए मजदूरों के धरने को सम्बोधित कर रहे थे। धरने का आज दूसरा दिन है। धरने की अध्यक्षता उपप्रधान वीरेन्द्र सिंह डंगवाल, धर्मवीर वैष्णव व राजवंशी राय ने संयुक्त रूप से किया।

धरने पर बैठे कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए जिला सचिव लाल बाबू शर्मा, उपप्रधान विजय झा ने पायन प्रिसीजन और ए.जे.कम्पनी के प्रबंधकों पर मजदूरों को प्रताडि़त करने का आरोप लगाते हुए बताया कि 2-6-2016 को मांग पत्र देने के बावजूद मजदूरों की समस्याओं का समाधान करने के बजाय पांच मजदूरों को नौकरी से निकाल दिया। श्रम विभाग निष्पक्ष कार्यवाही नहीं कर रहा है। कम्पनी प्रबंधकों के दवाब में आकर एक पक्षीय कार्यवाही हो रही है। मजदूरों की मांगों का पूर्ण समर्थन करते हुए सर्व कर्मचारी संघ, हरियाणा के मुख्य संगठन सचिव वीरेन्द्र डंगवाल ने बताया कि पिछले तीन वर्ष से मजदूरों को वार्षिक बढ़ोतरी का लाभ नहीं दिया जा रहा है। जबकि  कार्यालय के कर्मचारियों को चार और पांच हजार प्रति वर्ष सालाना बढ़ोतरी दी जाती है। जबकि उनका वेतन लाखों में है।

दूसरी तरफ मजदूरों को 22 वर्ष की सेवाकाल के बाद केवल 9 हजार रूपए वेतन दिया जाता है। उन्होंने श्रम विभाग के आला अधिकारियों पर कम्पनी प्रबंधकों के साथ नरम रूख अपनाने का आरोप लगाया। उन्होंने बताया कि ए.जे. कम्पनी में मजदूर सितम्बर 2010 से कार्यरत है। फैक्ट्री में 80 मजदूर थे इसमें 35 बाहर कर दिए और कम्पनी का नाम रातों-रात बदल कर ए.जे. के बजाय स्टाटर इंडिया रखा दिया। जबकि प्लाट, मशीन सामग्री ए.जे. की ही है।सीटू के उपप्रधान विजय झा ने चेतावनी दी है कि जब तक हटाये गए मजदूरों को ड्यूटी में वापिस नहीं लिया जाता है तथा रोका गया वेतन का भुगतान नहीं हो जाता मजदूर संघर्ष करते रहेगें तथा काली दीवाली मनायेगें। अधिकारियों के निवासपर दीवाली को प्रदर्शन करेगें।






loading...
SHARE THIS

0 comments: