Monday, October 3, 2016

‘‘राज के बदले माता मुझको, हो गया हुक्म फकीरी का’’



फरीदाबाद 3 अक्तूबर(abtaknews.com) ‘‘राज के बदले माता मुझको, हो गया हुक्म फकीरी का’’ के संवाद जब राम बने कलाकार (अनिल गांधी) ने मॉ को कहे तो रामलीला देख रहे सभी दर्शको की आंखों में आंसू आ गये। यह दृश्य था जागृति रामलीला का जहां राम को वनवास के लिए राजा दशरथ (बिण्टे सिंह) ने दिया तो दशरथ का अभिनय भी देखते बनता था। श्री राम बने अनिल गांधी ने अपने अभिनय के साथ पूरा इंसाफ किया जिसे दर्शकों ने भी माना। सीता (अंकुश) व लक्ष्मण (सोनू) ने भी अपने अपने अभिनय में किसी तरह की कमी नहीं छोड़ी। परंतु सबसे सशक्त किरदार कहा जाये तो मंथरा (गगन) ने निभाया जिन्होंने अपने संवाद को बोलते हुए ऐसा प्रतीत करवा दिया कि सच में मंथरा आ गयी है और उनका मेकअप भी देखने लायक था। कैकेयी (मिथुन) ने भी अपने संवाद में अपनी आवाज में वह ताकत दी कि उनकी आवाज से दर्शक तालियां बजाने से नहीं चूक पाये।
योगेश भाटिया ने बताया कि रामायण के सभी कलाकारो ने अपनी कला का शानदार प्रदर्शन कर जनता का मन मोह लिया है। उन्होंने कहा साथ ही बन्नूवाली भाषा में आयोजित रामलीला वाकई में लोगों को पंसद आ रही है।




loading...
SHARE THIS

0 comments: