Thursday, September 15, 2016

राजा नाहर सिंह महल में तोडफोड, पर्यटन विभाग ने बनाये कमरे


फरीदाबाद 15 सितंबर। 1857 में देश के लिये शहीद हुए राजा नाहर सिंह के बल्लभगढ में बने हुए  राजमहल में हरियाणा पर्यटन विभाग द्वारा तोडफोड की जा रही है, प्राचीन राजा महाराजाओं की धरोहर को तोडकर नये स्वरूप में कमरे बनाये जा रहे हैं, राजा नाहार सिंह का महल पुरातत्व विभाग के अर्तगत आता है जिसे 2003 में कुछ शर्तों पर पर्यटन विभाग ने होटल खोलने  के लिये लिया था जिसमें शर्त भी रखाी गई थी कि महल के स्वरूप के साथ कोई भी छेडछाड नहीं की जायेगी उसके बाबजूद भी महल के स्वरूप को बिगाडा जा रहा है, जिसपर सीपीएस सीमा त्रिखा और बल्लभगढ विधायक मूलचंद शर्मा ने आश्वासन दिया है कि वो मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बात करेंगे और महल के साथ कोई भी छेडछाड नहीं होने देंगे। 
शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बर्ष मेले, वतन पर मरने वालों का बस ये ही बाकी निशां होगा,,, कुछ ऐसे ही देश भक्ति के नारे देने वाले आज उन्हीं शहीदों की निशानियों को मिटाने में लगे हुए हैं, ऐसा ही एक मामला बल्लभगढ के राजा नाहर सिंह के राजमहल में इन दिनों देखने को मिल रहा है, 1857 में देश के अपने प्राणों की आहूति देने वाले राजा नाहर सिंह की आखिरी निशानी उनका एक मात्र राजमहल ही है जिसे हम अपनी आने वाली पीढी को दिखाते हैं और अपने पूर्वजों के बारे में बताते हैं मगर अब लग रहा है कि सरकार उन निशानियों को भी मिटाना चाहती है। 
ये है प्रचीन विशालकाय राजा नाहर सिंह की धरोहर नाहरसिंह महल जिसका सुंदरता अपने आप में मनमोहक है, जोकि आज पुरातत्व विभाग के अर्तगत है इस महल को 2003 में पर्यटन विभाग ने पुरातत्व विभाग से होटल खोलने के लिये कुछ शर्तों पर लिया था, जिसमें एक शर्त ये भी थी कि महल के स्वरूप के साथ कोई भी छेडछाड नहीं की जायेगी, लेकिन इन दिनों देखा जा रहा है कि पर्यटन विभाग महल में तोडफोड करके कुछ नये कमरे बना दिये है जोकि शर्त के अनुसार गलत है। 
इस बारे में महल में चल रहे पर्यटन विभाग के होटल मैनेजर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि महल में कुल 6 कमरे हैं हाल ही में तोडफोड करके नये रूप में दो कमरे और बनाये गये हैं अब उनके पास कुल 8 कमरे हो गये हैं, जो कि हरियाणा पर्यटन विभाग के आदेशानुसार बनाये गये हैं, महल के स्वरूप के साथ की गई छेडछाड के बारे में मैनेजर ने कुछ भी न बोलते हुए कहा कि उन्हें इस बारे में कोई भी जानकारी नहीं हैं जो भी हो रहा है हाई ऑथरटी की बजह से ही हो रहा है।

सत्ताधारियों ने कहा महल के स्वरूप के साथ नहीं होने देंगे कोई छेडछाड
वहीं महल के साथ की गई छेडछाड को लेकर सत्ताधारी सीपीएस सीमा त्रिखा और बल्लभगढ विधायक मूलचंद शर्मा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि उनके संज्ञान में ये मामला अभी आया है वो मिलकर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल से बात करेंगे, अगर ऐसा किया जा रहा है तो ये गलत हो रहा है ऐसा नहीं होने दिया जायेगा, हमा प्राचीन धरोहरों  के स्वरूप के साथ कोई भी छेडछाड नहीं होने देंगे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: