Friday, September 9, 2016

पत्रकार सचिन की मौत के बाद अस्पतालों से पीडित आये सामने


फरीदाबाद 9 सितंबर। पत्रकार सचिन खेडा की मौत के बाद हुए हंगामे से एस्कोर्ट फोर्टिस अस्पताल पर मामला दर्ज होने के बाद अब अन्य लुटे परेशान हुए मरीजों के परिजन भी सामने आने लगे हैं, जो मामूली सी बिमारी को लेकर अस्पताल में ये सोच कर पहुंचे थे कि बडा अस्पताल है ईलाज अच्छा होगा और उनका मरीज ठीक हो जायेगा मगर डाक्टरों ने ठीक उसका उल्टा करके पैर से चोटिल मरीज को अन्य कई बिमारियों से ग्रस्त बताकर एक हफ्ते तक अस्पताल में रखा जिसके लिये उनसे मोटा पैसा भी वसूला गया, और अंत में आकर 53 बर्षीय व्यक्ति का शव परिजनों को सोंप दिया। गुस्साई मृतक की महिला परिजनों ने अस्पताल के गेट पर ही धरना दे दिया और पुलिस को डाक्टरों के खिलाफ लापवाही से मौत होने की शिकायत भी दी है जिसपर सख्त से सख्त कार्यवाही करने की मांग की है।
धरती के भगवान माने जाने वाले डाक्टरों ने अब कुछ पैसों के लिये लोगों की जानें लेना शुरू कर दिया है, इसका खुलासा उस वक्त हुआ जब एक पत्रकार सचिन खेडा की मामूली बुखार के चलते नामी एस्कोर्ट फोर्टिस अस्पताल में मौत हो गई, जिन्हें 29 अगस्त को भर्ती करवाया गया था और 8 सितंबर को डाक्टरों की लापरवाही के चलते उनकी मौत हो गई। इसी लापरवाही के साथ एक और व्यक्ति की लापरवाही से मौत का मामला सामने आये है, जिससे गुस्साये मरीज के परिजनों अस्पताल के गेट पर बैठ न्याय के लिये गुहार लगाई। दरअसल एनआईटी 2 नम्बर से एक 53 बर्षीय व्यक्ति पैर में मामूली चोट के चलते 29 को ही अस्पताल में भर्ती हुआ था, जिसका आपरेशन करने के लिये बोला गया, परिजनों ने डाक्टरों पर भरोषा करते हुए आपरेशन के लिये हा बोल दिया है मगर उन्होंने आपरेशन में लापरवाही करते हुए सैफ्ट्रिक ठीक से चैक नहीं किया जिससे उनके पैर में सैफ्ट्रिक बन गया और परिजनों को बिन बताये मरीज के पैर में चीरा लगा दिया, उसके बाद से डाक्टरों ने मरीज को अन्य बिमारियों से ग्रस्त बताकर ईलाज करने के लिये पूरे हफ्ते तक आईसीयू में रखा जहां किसी को भी नहीं मिलने दिया,, जिसका परिणाम ये निकला की डाक्टरों ने 8 सितंबर को मरीज का शव परिजनों को सोंप दिया। जिसकी शिकायत परिजनों ने पुलिस थाने में दी और लापरवाही का आरोप लगाया। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: