Wednesday, September 21, 2016

नर सेवा ही नारायण सेवा है, श्रीमद् देवी भागवत कथा का दूसरा दिन



फरीदाबाद 21 सितम्बर(abtaknews.com ) संत श्री कृष्णा स्वामी जी ने कहा है कि 'नर सेवा ही नारायण सेवा'' है। जो लोग जरूरतमंदों की सेवा सहायता करते हैं, वे सच्चे समाजसेवी हैं। अपने लिये तो सभी जीते हैं जो दूसरों की मदद के लिये आगे आते हंै वे सच्चे मानव होते हंै। कृष्ण स्वामी जी ने यह बातें मानव सेवा समिति के तत्वाधान में आयोजित की जा रही श्रीमद् देवी भागवत कथा के दूसरे दिन अपने प्रवचन में कहीं। उन्होंने नवरात्रों की महिमा के बारे में बताते हुये कहा कि इन 9 दिनों में 9 देवियों की पूजा अर्चना करना शुभ व कल्याणकारी होता है। नवरात्रों में पूजा अर्चना के साथ-साथ प्रत्येक व्यक्ति को कम से कम अपनी एक बुराई छोडऩे और किसी एक जरूरतमंद की सहायता करने का संकल्प लेना चाहिये। बुधवार की कथा में राम वनवास, नर नारायण तप की कथाओं का प्रसंग सुनाया गया। प्रसंग के दौरान दुर्गा मां की सुंदर झांकी का अवलोकन सभी भक्त जनों ने किया।

इस अवसर पर व्यास जी ने समाजसेवी अरुण अहुजा, शिक्षाविद वाई. के. माहेश्वरी व नारायण झंवर को स्मृति चिन्ह, सम्मान पट्टिका देकर आशीर्वाद दिया। इस मौके पर समिति के अध्यक्ष पवन गुप्ता, चैयरमैन अरुण बजाज, महासचिव कैलाश शर्मा, मुख्य यजमान गौतम चौधरी, संयोजक मंडल के सदस्य प्रदीप टिबरीवाल, पी. पी. पसरीजा, ओ. पी. सहल, कमला जैन, सुधीर चौधरी, अमर खान, ओ. पी. परमार, नरेन्द्र मित्रा, जे. पी. सिंघल, कुसुम कौशिक, अरुणा शर्मा आदि उपस्थित रहे। समिति ने शहर के सभी दानी सज्जन, धर्म प्रेमियों व समाजसेवियों से अपील कि है कि वे जरूरतमंद विद्यार्थियों की मदद के लिये आयोजित की जा रही इस कथा के उद्देथ्य को पूरा करने के लिये दिल खोलकर दान दें। यह कथा 26 सितम्बर तक सेक्टर 9 स्थित सनातन धर्म मंदिर में दोपहर 2:30 से 7 बजे तक रोजाना आयोजित की जायेगी। 27 सितम्बर को यज्ञ हवन व भण्डारा आयोजन किया जायेगा।

loading...
SHARE THIS

0 comments: