Monday, September 26, 2016

एम आर यूनिवर्सिटी में मित्सुबिशी फैक्टरी ऑटोमेशन लैब शुरू



फरीदाबाद 26 सितंबर, 2016: उद्योग जगत को उच्च गुणवत्ता के प्रषिक्षित कर्मी उपलब्ध कराने के प्रयास के तहत मानव रचना हमेशा ही उद्योग जगत की मांगों के अनुरूप षिक्षा प्रदान करने में विष्वास करता रहा है। मित्सुबिशी इलेक्ट्रिक इंडिया (मेईआई) के सहयोग से मित्सुबिशी फैक्टरी ऑटोमेषन लैब षुरू करने की पहल करके मानव रचना इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी ने उच्च गुणवत्ता वाली श्रमषक्ति के विकास तथा ऑटोमेषन क्षेत्र में उत्कृश्ट कार्य कर सकने वाले तथा उद्योग के लिए पूरी तरह तैयार छात्रों के पोशण के लिए पाठ्य सामग्री और प्रशिक्षण प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता को एक बार फिर साबित किया है। एमआरआईयू तथा एमईआई के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर के साथ इस लैब का षुभारंभ हो गया। इस समझौते के साथ 2013 में हुआ सहमति करार पूरा हुआ है। 
मित्सुबिशी फैक्टरी ऑटोमेषन लैब का षुभारंभ मित्सुबिशी इलेक्ट्रिक इंडिया के निदेषक तथा फैक्टरी ऑटोमेषन एंड इंडस्ट्रियल डिविजन (फैड) के प्रमुख श्री मकोतो योकोयामा ने एमआईआई के उपाध्यक्ष डा. अमित भल्ला, एमआरईआई के प्रबंध निदेषक डा. संजय श्रीवास्तव तथा एमआरआईयू के एफईटी के कार्यकारी निदेषक एवं डीन डा. एम के सोनी, एमईआई के फैक्टरी आटोमेषन सेंटर के महाप्रबंधक श्री हिरोषी कितामुरा एवं अन्य वरिश्ठ अधिकारियों, गणमान्य अतिथियों की उपस्थिति में किया। 
आज के कार्यक्रम की षुरूआत एक उपयोगी इंटरैक्टिव सेषन के साथ हई जिसमें श्री माकोतो योकोयामा ने छात्रों के साथ संवाद किया तथा विस्तार के साथ एमईआई के उत्पादों एवं सेवाओं तथा भारत में षैक्षिक संस्थाओं के साथ अपने संबंधों को और मजबूत करने के अपने कारपोरेट मिषन के आधार पर अपनी सीएसआर गतिविधियों के बारे में चर्चा की। छात्र श्री योकोयामा से प्राप्त जानकारियों एवं ज्ञान तथा षिक्षा के क्षेत्र में मित्सुबिषी की ओर से निभाई जा रही सक्रिय भूमिका के बारे में सुनकर मंत्रमुग्ध हो गए। छात्रों को यह भी बताया गया कि मित्सुबिषी छात्रों को भविश्य के वैष्विक नागरिक के रूप में विकसित करने के लिए तकनीकी सहायता तथा अन्य साधन भी उपलब्ध करा रहा है। 
यह उल्लेखनीय है कि एमईआई फरवरी, 2017 में द्वितीय एमईआई कप की मेजबानी कर रही है जिसमें एमआरआईयू ने भागीदारी करने वाले 100 कॉलेजों में से चुने गए षीर्श 35 कॉलेजों के बीच क्वालीफाई किया है। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: