Sunday, September 18, 2016

सराय ख्वाजा स्कूल के बच्चों ने वृद्धा आश्रम का भ्रमण किया




फरीदाबाद(abtaknews.com )जिला एवम् सत्र न्यायधीश और चेयरमेन, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण फरीदाबाद श्री इन्द्रजीत मेहता और मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी एवम् सचिव श्रीमति सम्प्रीत कौर, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण फरीदाबाद के दिशानिर्देशानुसार प्रोजेक्ट परिचय के अन्र्तगत राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, सराय ख्वाजा की जूनियर रैडक्रास, एन.एस.एस. इकाईयों और सैंट जान एंबुलैंस बिगे्रड ने विद्यालय के अंग्रेजीे प्रवक्ता, जूनियर रैडक्रास, सैंट जान एंबुलैंस बिगे्रड व एन एस एस प्रथम यूनिट के प्रोग्राम अघिकारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा और डी पी बीना शर्मा के नेतृत्व में ताउ देवीलाल वृ़द्धाश्रम एन आई टी फरीदाबाद, पुलिस स्टेशन सैक्टर 12, फरीदाबाद और सी जे एम अदालत, फरीदाबाद का अवलोकन कर नई जानकारी एवम अनुभव सा़झे किए। मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी एवम् सचिव श्रीमति सम्प्रीत कौर, पैनल एडवोकेट रविन्द्र गुप्ता और आर सी गोला की उपस्थिति में ताउ देवीलाल वृ़द्धाश्रम एन आई टी फरीदाबाद में छात्रा वैष्णवी ने नृत्य और नेहा ने भजन गा कर वृ़द्धाश्रम के बुजुर्गों का मन मोह लिया। एन एस एस अघिकारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने बताया कि वृ़द्धाश्रम के बुजुर्गों से मिलकर छात्राओं का दिल भर आया, उन्होने कहा कि वे अपने बुजुर्गों की खूब सेवा करेंगे ताकि किसी भी बुजुर्ग को अपने बच्चों के रहते वृ़द्धाश्रम जैसी संस्था में ना रहना पडे।

इस के पश्चात प्रोजेक्ट परिचय के अन्र्तगत छात्राएं पुलिस स्टेशन सैक्टर 12, फरीदाबाद पहुंची, उन्हें मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी एवम् सचिव श्रीमति सम्प्रीत कौर और उपस्थित महिला पुलिस ने फरीदाबाद पुलिस की नई एप ‘एफ आई आर’ डाउनलोड करने के बारे में अवगत करवाया और कहा कि किस प्रकार वे मुसीबत के समय इस एप की मदद से पुलिस सहायता प्राप्त कर सकते है। अन्त में प्रोजेक्ट परिचय के अन्र्तगत छात्राओं ने सी जे एम अदालत, फरीदाबाद का भ्रमण किया, यहंा छात्राओं ने सी जे एम से कुछ सवाल भी पूछे, छात्रा नेहा ने सी जे एम से उन के अनुभवों के बारे में पूछा। एक छात्रा ने पूछा कि यदि पुलिस उन की शिकायत दर्ज नही करती तो उन्हें क्या करना चाहिए, इस पर सी जे एम ने कहा कि वे साधारण कागज पर अपनी शिकायत इस अदालत में दे दें, तुरन्त उचित कारवाई की जाएगी और पीडिता को पूरा न्याय मिलेगा। एक अन्य छात्रा ने पूछा कि यदि किसी छात्रा के माता पिता उसे उस की इच्छा होते हुए भी उस की पढाई में बाघा डालते है या उस की पढाई रुकवाना चाहते है तो वह क्या करें। मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी ने कहा कि ऐसी स्थिति में उस के माता पिता की काउंसलिंग कर उन्हें समझाया जाएगा, फिर भी नही माने तो महिला प्रोटेक्शन अघिकारी  के माध्यम से मामला सुलझा लिया जाएगा।
एन एस एस अघिकारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा और डी पी बीना शर्मा नें प्रार्चाय डाक्टर सुरेश सिंह और समस्त विद्यालय की ओर से जिला विधिक सेवा प्राधिकरण फरीदाबाद के सभी अधिकारियों का विद्यालय की छात्राओं का मार्गदर्शन के लिए आभार व्यक्त किया।


loading...
SHARE THIS

0 comments: