Saturday, September 17, 2016

पंचकूला तथा सिरसा को खुल में शोच-मुक्त जिले घोषित ;- नरेन्द्र सिंह तोमर



चण्डीगढ़, 17 सितम्बर(abtaknews.com ) हरियाणा के दो जिलों नामत: पंचकूला (ग्रामीण) तथा सिरसा को आज पंचकूला में हुए एक समारोह में खुले में शोच-मुक्त (ओडीएफ) घोषित किया गया, जिसमें मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने केन्द्र सरकार को आश्वासन दिलाया कि दिसम्बर, 2017 तक प्रदेश के सभी जिलों को खुले में शोच-मुक्त घोषित कर दिया जाएगा। केन्द्रीय ग्रामीण विकास तथा पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर भी इस अवसर पर उपस्थित थे।  मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में स्वच्छ भारत मिशन के लक्ष्य को हासिल करने के लिए ठोस प्रयास कर रही है और पहली नवम्बर, 2016, जब हरियाणा अपने स्वर्ण जयंती समारोह शुरू करेगा, को आठ और जिलों को खुले में शोच-मुक्त घोषित किया जाएगा। ये जिले हैं - यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, पानीपत, करनाल, फरीदाबाद, गुडग़ांव, हिसार और फतेहाबाद। उन्होंने पंचायती राज संस्थाओं के अधिकारियों तथा प्रतिनिधियों, विशेषतौर पर उपायुक्त डॉ. गरिमा मित्तल तथा अतिरिक्त उपायुक्त श्रीमती हेमा शर्मा को, इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए किए गये उनके प्रयासों के लिए बधाई दी और पंचकूला  जिला प्रशासन को एक स्मृति चिह्न भी भेंट किया। उन्होंने इस पहल में सहयोग तथा समर्थन के लिए ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को भी बधाई दी। 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत के विजन का उल्लेेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि श्री मोदी ने 2 अक्तूबर, 2014 को यह अभियान शुरू किया था और लोगों से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती 2 अक्तूबर, 2019 तक आगामी पांच वर्षों में पूरे राष्ट्र को स्वच्छ बनाने का आह्वान किया था। मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्म दिवस पर पंचकूला तथा सिरसा को खुल में शोच-मुक्त जिले घोषित करके श्री मोदी के विजन को साकार किया है।  उन्होंने कहा कि ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ कार्यक्रम के तहत प्रदेश ने जन्म पर 950 से अधिक के लिंगानुपात का लक्ष्य निर्धारित किया है और इसे आने वाले दिनों में हासिल कर लिया जाएगा। हरियाणा ने अगस्त, 2016 में 914 के लिंगानुपात केे  बेंचमार्क को पार कर लिया है। उन्होंने कहा कि यह सम्बन्धित विभाग द्वारा किए गये निरंतर प्रयासों तथा लोगों के सहयोग से सम्भव हो पाया है। 
केन्द्रीय ग्रामीण विकास तथा पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने स्वच्छ भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपने को साकार करने के लिए हरियाणा सरकार को बधाई देते हुए कहा कि हरियाणा ने पंचकूला और सिरसा जिलों को खुले में शोच-मुक्त घोषित करके इस मामले में बढ़त बना ली है। उन्होंने कहा कि हरियाणा पूरी तरह से खुले में शोच-मुक्त राज्य का दर्जा हासिल करने वाला है, क्योंकि इसने लगभग 80 प्रतिशत लक्ष्य पहले ही हासिल कर लिया है। श्री तोमर ने कहा कि पूरे देश में स्वच्छ भारत मिशन की गति बढ़ाई जा रही है, ताकि इच्छित लक्ष्य को निर्धारित अवधि के अन्दर हासिल किया जा सके।

उन्होंने सरपंचों तथा पंचायती राज संस्थाओं के अन्य प्रतिनिधियों से भी उनके क्षेत्रों में खुले में शोच-मुक्त की स्थिति बनाए रखने और गांवों में ठोस तथा तरल कचरा प्रबन्धन कार्यक्रम लागू करने में सहयोग करने का आह्वान किया।केन्द्रीय मंत्री ने इस अवसर पर पंचायतों, सरपंचों, पंचों, पंचायत समितियों के अध्यक्षों तथा सदस्यों को स्वर्ण जयंती स्वच्छता पुरस्कारों से भी सम्मानित किया।हरियाणा के विकास एवं पंचायत मंत्री श्री ओ.पी. धनखड़ ने इस अवसर पर लोगों को बधाई दी और स्वच्छता अभियान की सफलता तथा खुले में शोच-मुक्त की स्थिति बनाए रखने में सहयोग करने का आह्वान किया। उन्होंने स्वच्छ तथा कचरा मुक्त गांवों के लक्ष्य को हासिल करने में भी उनका सहयोग मांगा। उन्होंने कहा कि शत-प्रतिशत शिक्षित पंचायतों वाला हरियाणा पहला राज्य है। उन्होंने सभी अधिकारियोंं, पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियोंं तथा इस अवसर पर उपस्थित अन्य लोगोंं को स्वच्छता की शपथ भी दिलवाई।सांसद श्री रतन लाल कटारिया, विधायक श्री ज्ञान चन्द्र गुप्ता तथा श्रीमती लतिका शर्मा, विकास एवं पंचायत विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती नवराज संधु और उपायुक्त डॉ. गरिमा मित्तल ने भी इस अवसर पर अपने विचार रखे। इस अवसर पर जिला परिषद की अध्यक्ष श्रीमती रीता सिंगला, विकास एवं पंचायत विभाग के निदेशक श्री अशोक मीणा, पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि तथा केन्द्र व राज्य सरकारों के अधिकारी भी उपस्थित थे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: