Thursday, September 22, 2016

नहीं सुधरेंगे ये कांग्रेस नेता, मीम अफजल ने कहा 'आतंकियों को जलाने से आहत मुस्लिमों की भावनाएं'



नई दिल्ली-सितंबर 22,2016 (abtaknews.com ): ये कांग्रेस पार्टी के मुस्लिम नेता कभी देश के नहीं हो सकते।मीम अफजल ने आतंकियो को हमदर्दी दिखाते हुए ऐसा खतरनाक बयानदिया है की पूरे देश में लोगो का गुस्सा उबाले मर रहा है। देशभर में आलोचना करते हुए लोग कह रहे हैं कि हम कितना भी कहें कि आतंकवादी को कोई धर्म नहीं होता लेकिन कांग्रेस नेता मीम अफजल की बातों से लग रहा है कि आतंकवादियों का एक धर्म होता है। बात दरअसल यह थी कि जी न्यूज के 'ताल ठोंक के' प्रोग्राम में आतंकियों के अंतिम सस्कार पर बहस चल रही थी, मुद्दा यह था कि आतंकी को दफनाना चाहिए या उन्हें कचरे के साथ जला देना चाहिए ताकि उन्हें जन्नत नसीब ना हो, ज्यादातर लोगों की राय थी कि आतंकियों की लाश को जला देना चाहिए, मीम अफजल उस वक्त पैनल में मौजूद नहीं थे इसके बावजूद भी उन्होंने फोन पर अपनी राय रखी। 

उन्होंने कहा कि यह एक गंभीर चर्चा का विषय है, इसपर जल्दबाजी से फैसला होने पर देशवासियों की भावनाएं आहत हो सकती हैं, उन्होंने कहा कि इस्लाम में माना जाता है कि आदमी को दफनाने के बाद पापी के भी पाप ख़त्म हो जाते हैं और उन्हें जन्नत नसीब होती है, मीम अफजल का मतलब यह था कि आतंकवादी अगर किसी की जान लेता है तो उसे पाप मिलता है, उसे पाप की सजा भी देनी चाहिए लेकिन उसके पाप को ख़त्म करने और उसे जन्नत में भेजने के लिए उसे दफनाना जरूरी है, भले ही वह आतंकी है। उनका कहना था कि अगर आतंकियों को जला दिया गया तो इससे इस्लाम के साथ साथ भारत के मुस्लिमों की भी भावनाएं आहत हो सकती हैं। 

इसी पैनेल में पाकिस्तान के मशहूर विद्वान् तारिक फ़तेह ने बताया कि इस्लाम की आड़ में आतंक फैलाने वालों को जन्नत और हूरें मिलने की बात कह कर बरगलाया जाता है, इसलिए वो रास्ता ही बंद कर देना चाहिए, ऐसे आतंकवादियों को जला दिया जाना चाहिए, तारिक फ़तेह तो इससे भी एक कदम आगे जा कर इज़रायल की सोच पर चलने की सलाह दी, जहां आतंकवादियों के शवों पर सुअर की चर्बी का तेल डाल कर आग लगाई जाती है। बीजेपी सांसद साक्षी महाराज को लगता है कि आतंकवादियों के शवों को चौराहे पर जला दिया जाना चाहिए। 

अगर कांग्रेस नेता के अनुसार आतंकवादियों को जलाने से एक धर्म के लोगों की भावनाएं आहात होंगी तो हमारा देश आतंक के साथ कैसे लड़ पाएगा, अगर आतंकी दफनायें जाएंगे, उनकी मौत पर फतीह पढ़ा जाएगा, अगर उनकी कब्र पर लोग जाकर फूल चढ़ाएंगे यही नही हमारे देश के लोगों को मारने वाले आतंकियों की हमारे देश में कब्र बनायी जाएगी, उन्हें जमीन दी जाएगी तो हम आतंकवाद से कैसे लड़ पाएंगे। हमें पाकिस्तान से भी अधिक हमारे देश के कुछ लोगों से ज्यादा खतरा है। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: