Sunday, September 11, 2016

न्याय ना मिलने से परेशान गैंगरेप पीडिता ने मांगी इच्छा मृत्यु




फरीदाबाद सितंबर 11,2016(abtaknews.com ) कई महीनों से न्याय के लिये गुहार लगा रही गेंगरेप पीडिता ने पुलिस प्रशासन की तिकडमबाजी से हार कर प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीश सर्वोच्च न्यायालय, मुख्यमंत्री हरियाणा, और राज्यपाल को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी है, पीडिता पिछले 3 दिनों से पुलिस कमीश्रर के कार्यालय पर गेंगरेप आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग के लिये अनशन पर बैठी थी जहां से उसे पुलिस कर्मियों द्वारा भगा दिया गया, आखिर में पीडिता ने सरकार को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी है और चेतावनी दी  है कि जल्द से जल्द कार्यवाही नहीं की गई तो वो पुलिस कमीश्रर कार्यालय के सामने आत्महत्या करेगी।

अब मैं खूब सोच समझकर अपनी मृत्यु का वरन करना चाहती हूं परंतु आपको इसलिये सूचना दे रही हूं कि अपने देश में ऐसी कानून व्यवस्था लाने की कोशिशकी जाये जिससे मजबूर होकर फिर किसी पीडिता को आत्महत्या न करनी पडे। अंत में आपको प्रणाम करके करबद्ध प्रार्थना करती हूं कि अपने इस देश की बेटी को इच्छा मृत्यु की इजाजत दी जाये। ये वो लाईनें है जो गैंगरेप पीडिता ने प्रधानमंत्री, मुख्य न्यायाधीश सर्वोच्च न्यायालय, मुख्यमंत्री हरियाणा, और राज्यपाल को पत्र में लिखकर इच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी है। 

पुलिस प्रशासन की तिकडमबाजी से परेशान होकर फूट - फूटकर रोती हुई नजर आ रही ये महिला सामूहिक बलात्कार की पीडिता है जो कि कई महीनों से अपने साथ हुए दुष्कर्म के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रही है मगर 31 दिसबंर को हुए गेंगरेप को आज करीब 8 माह गुजर चुके हुए हैं अब तक पीडिता को न्याय नहीं मिला है, जिसको लेकर पीडिता ने शहर के पुलिस थाने डीसीपी सहित पुलिस कमीश्रर से भी न्याय की गुहार लगा ली है मगर कार्यवाही के नाम पर उन्हें सिर्फ धक्के पर धक्के ही मिले हैं, पीडिता पुलिस प्रशासन से तंग आकर पुलिस आयुक्त के कार्यालय पर न्याय के लिये अनशन पर भी तीन दिन से बैठी हुई थी मगर पुलिस ने इसे धक्का मारकर भगा दिया। भाजपा सरकार महिलाओं के सम्मान की बडी बडी बातें करती है मगर इस महिला के साथ हुई गेंगरेप की घटना के बाद कार्यवाही न होने से सरकार की कथनी और करनी पर प्रश्रचिन्ह लग गया है। 

इस बारे में पीडिता से बात की गई तो पीडिता कैमरा चालू होते ही रोने लगी कहा कि मैं आपबीती बताते बताते परेशान हो चुकी हूं अब मुझमें वो हिम्मत नहीं है कि मैं अब सामना कर सकूं। पीडिता ने कहा कि 2015 दिसबंर मे धर्मनगरी वृद्धावन में ले जाकर मेरे साथ गैंगरेप किया गया है जिसमें आरोपियों ने उसकी अश£ील विडियो बना ली और उस वीडियो को दिखाकर बार बार ब्लेंकमेल करने लगे, जिससे परेशान आकर पीडिता ने पुलिस में शिकायत दी, जिसका मामला दर्ज भी हो गया,  उसके बाद भी आरोपियों ने वो ही विडियो पीडिता की नाबालिक बेटियों को दिखाना शुरू कर दिया और धमकी देने लगे कि अगर उसने मामला वापिस नहीं लिया तो जो उसके साथ किया है वो ही उसकी नाबालिक बेटियों के साथ करेंगे। जिसके बारे में भी शिकायत दी है मगर पुलिस ने अभी तक किसी भी आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया है, जिसकी गिरफ्तारी की मांग को लेकर पीडिता पुलिस आयुक्त के कार्यालय पर अनशन पर बैठी हुई थी जहां से उसे भगा दिया गया। पीडिता ने कहा कि अब वो इतना  सब कुछ होने के बाद समाज में मुंह दिखाने लायक भी नहीं रही है और उपर से पुलिस आरोपियों के खिलाफ भी कोई कार्यवाही नहीं कर रही है, अब तो उनके पास बस एक ही विकल्प बचा है और वो है आत्महत्या,, जिसके लिये उन्होंने देश के प्रधानमंत्री, हरियाणा मुख्यमंत्री, राज्यपाल और मुख्य न्यायाधीश सर्वोच्च न्यायालय के लिये पत्र लिखकर भारतीय डाक से भेजा है जिसमें उन्होंने अच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी है, और चेतावनी दी है कि जल्द से जल्द आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया तो वह पुलिस कमीश्रर कार्यालय के सामने आत्महत्या करेगी।

वहीं पीडिता के साथ पै्रसवर्ता में पहुंचे समाजसेवी अनशनकारी बाबा रामकेवल ने पूरे मामले की गहनता से जांच करने की मांग करते हुए कहा है कि अगर पुलिसकर्मी जांच न कर पा रहे हों तो मामले को सीबीआई को सोंप दिया जाये।


loading...
SHARE THIS

0 comments: