Wednesday, September 21, 2016

बी के सिविल अस्पताल में आवारा जानवरों के आवागमन रोकने को बानी दीवार



फरीदाबाद(abtaknews.com) बी के सिविल हॉस्पिटल में गधों के खुले विचरण के संबंध में दिखाई गई खबर का असर देखने को मिला है। अस्पताल प्रशासन ने आवारा जानवरों के प्रवेश रोकने के लिए टूटी गई दीवार को पुन: बनवा दिया है और लोहे की ग्रिल भी लगा दी गई है। अस्पताल के पीएमओं का कहना है कि हालांकि यह अस्पताल का पुराना भवन है और 2012 के बाद से यहां कोई कार्य नहीं हो रहा है, यह कंडम हो चुका है। लेकिन फिर भी न्यूज चैनल के माध्यम से उन्हे इसका पता लगा तो आवारा जानवरों के प्रवेश को पूरी तरह से रोक दिया गया है।

बी के सिविल अस्पताल का पुराना भवन  जिसे कंडम बताया जा रहा है, लेकिन यहां मुख्य चिकित्सा अधिकारी का कार्यालय बादस्तूर चल रहा है। इस भवन में गधें खुले आम विचरण कर रहे थे। जब अस्पताल प्रबंधन इन्हे देखकर भी नहीं रोक पाया तो मिडिया ने इस खबर को जोर-शोर से उठाया कि एक तरफ तो बिमारियां फैल रही है और दूसरी ओर सरकारी अस्पताल में आवारा जानवर बिना किसी रोक-टोक के प्रांगण में विचरण कर रहे है। इस पर संज्ञान लेते हुए अस्पताल के प्रधान चिकित्सा अधिकारी डा. वीरेन्द्र यादव ने तुरन्त टूटी हुई दीवार को पुन: बनवा दिया और लोहे की ग्रिल लगवाकर रास्ता बंद कर दिया गया। पीएमओं का कहना है कि यह पुराना भवन है और कंडम हो चुका है। इसे गिराकर नया बनाने की सरकार को सिफारिश भेजी जा चुकी है और यह अस्पताल से काफी दूर है। लेकिन फिर भी उन्हे न्यूज चैनल के माध्यम से जब इसका पता चला तो यहां दिवार लगवाकर आवारा जानवरों का रास्ता बंद करा दिया गया है। सीएमओं छुट्टी पर है और फिलहाल चार्ज उनके पास है। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: