Tuesday, September 6, 2016

डूसू के चुनाव में 9 सितंबर को वोट डालकर देशद्रोहियों से लें बदला ;- श्रीनिवास



फरीदाबाद-सितंबर 06,2016(abtaknews.com)  छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद  के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने दिल्ली विश्वविद्यालय में 9 सितबंर को होने वाले छात्रसंघ के चुनाव को लेकर फरीदाबाद में एक पत्रकार वार्ता की, जिसमें उन्होंने एनसीआर के सभी विद्याथियों को अपने मत का प्रयोग करने के लिये जागरूक किया। वहीं श्रीनिवास ने छात्रों से आहवान किया है कि 9 फरवरी को लगे राष्ट्रविरोधी नारों का बदला 9 सितंबर को जरूर लें और वांमपथी देशद्रोहियों को सबक सिखायें। श्रीनिवास ने दावा किया है कि महागठबंधन के सामने एबीवीपी जीत की हैट्रिक लगायेगी।

सेक्टर 16 ए होटल मैगपाई में आयोजित प्रेस वार्ता में पत्रकारों से दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनावों को लेकर बातचीत करते हुए एबीवीपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्री निवास ने बताया कि डूसू चुनाव में दिल्ली एनसीआर के छात्रों का अहम् रोल रहता है। जिसके लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने सघन जनसंपर्क अभियान चलाया जाता है जिसके तहत हमारे कार्यकर्ता प्रत्येक छात्र से व्यक्तिगत संपर्क कर चुनाव में एबीवीपी के उम्मीदवार के पक्ष में वोटिंग करने की अपील कर रहे है. हमारे कार्यकर्ता मेट्रो में दिल्ली जाने वाले छात्रों के साथ सफर कर चुनाव प्रचार कर रहे है. फरीदाबाद पलवल मेवात और गुडगांव में भी छात्र संगठनों ने अपना प्रचार प्रसार शुरू कर दिया है, इसी कडी में आज एबीवीपी छात्र संगठन के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने फरीदाबाद में एक पत्रकार वार्ता का आयोजन किया, जिसमें चुनावों से सबंधित जानकारी दी।
श्रीनिवास ने कहा कि एबीवीपी महागठबंधन के सामने इस बार भी जीत की हैट्रिक लगायेगी। और उन देशद्रोहियों को सबक सिखायेगी जिन्होंने देशविरोधी नारे लगाये थे। 9 फरवरी को दिल्ली का छात्र देगा देशविरोधी नारों का जबाब। एबीवीपी 9 सितबंर को जेएनयू में हम चुनाव जीतेंगे और डूसू में जीत की हैडट्रिक लगाएंगे इसके लिये उनके कार्यकर्ता छात्रों से संघन सम्पर्क चलाये हुए है और उन्हें अपने देश के अपमान का बदला लेने के लिये प्रेरित भी कर रहे हैं। इस बार चुनावों में वह तीन मुद्दों पर चुनाव लड रहे हैं, पहला मुद्दा छात्र देश में राष्ट्रवादी हो, दूसरा मुद्दा अपने काम के दम पर दो बार डूसू चुनाव जीते हैं, तीसरा मुद्दा छात्र व छात्राओं के हितों के लिये हैं जिसमें उन्होंने कई प्रकार की घोषणा की है जिसमें छात्राओं की सुरक्षा के लिये वो एक एप लॉच कर रहे हैं आई फील सेफ जिससे छात्राओं को मदद मिलेगी। 
एबीवीपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने कहा कि एबीवीपी ने दिल्ली यूनिवर्सिटी में फोर ईयर प्रोग्राम को रोल बैक करवाया। रेवल्यूएशन रीस्टार्ट करवाया।  लॉ के छात्रों के लिए एबीवीपी ने संघर्ष किया। निर्भया ज्योति ट्रस्ट के साथ महिला सुरक्षा और सम्मान की लड़ाई लड़ी और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने छात्रों के लिए i Feel  Safe App Launch किया।
फरीदाबाद। दिल्ली विश्वविद्यालय(डीयू) और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय(जेएनयू) में 9 सितंबर को होने वाले छात्र संगठन चुनाव में एबीवीपी स्थानीय मुद्दों के साथ राष्ट्रद्रोह बनाम राष्ट्रवाद को लेकर भी छात्रों के बीच जाएगी। दोनों चुनावों में जीत का दावा करते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्रीनिवास ने छात्रों से राष्ट्रवाद के नाम पर वोट देने का आह्वान किया। एबीवीपी नेता मंगलवार को मैगपाई होटल में आयोजित पत्रकारवार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 9 फरवरी को जेएनयू में घटित एक घटना ने वामपंथ का सच सामने ला दिया है। जो लोग भारतीय जवानों की शहादत पर जश्न मनाते है, संसद व भारतीय संविधान में विश्वास नहीं करते, जो देश के टुकड़े करने की चाहत रखते है ऐसे सभी लोगों को छात्र इसबार हार में मजा सिखाएंगे। इसबार जेएनयू में लाल झंडा नहीं बल्कि भगवा लहराएगा। उन्होंने बताया कि एबीवीपी राष्ट्रवादी छात्र संगठन है। जिसके कार्यकर्ताओं ने नक्सलवाद के खिलाफ लड़ते हुए जान की परवाह भी नहीं की। एबीवीपी को हराने के लिए सभी लेफ्ट छात्र संगठनों ने लार्जर लेफ्ट नामक नया गठबंधन किया है। लेकिन, राष्ट्रवाद के प्रति छात्रों में जबरदस्त रूझान है। इसलिए डूसू और जेएनयू में इसबार एबीवीपी प्रत्याशी बड़े अंतर के साथ जीत हासिल करेगी। उनके साथ एबीवीपी के विभाग प्रमुख डा. घनश्याम वत्स, तकनीकी छात्र प्रमुख दामोदर भारद्वाज, जिला संयोजक बलराम भारद्वाज, नैंसी चौधरी, मोहम्मद इश्याक, पवन सौरोत, विकास डागर, रासबिहारी, अनमोल भारद्वाज और पूर्व विभाग संयोजक मनीष टोंगर विशेष तौर पर मौजूद थे।  
-------
घर-घर दस्तक देगा संगठन -- एबीवीपी नेता श्रीनिवास ने बताया कि डूसू में जाने वाले हर विद्यार्थी तक इसबार घर-घर जाकर संपर्क साधा जाएगा। उसे लेफ्ट पार्टियों समेत कांग्रेस ने किस तरह जेएनयू में लगे भारत विरोधी नारों को लेकर सक्रिय रही? इस बारे में विस्तार से जानकारी दी जाएगी। उन्होंने बताया कि साल भर सक्रिय होने के कारण एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने डीयू पढऩे वाले छात्रों की सूची तैयार की है। इन सूचियों को वार्ड, मौहल्ला वाइज संपर्क किया जा रहा है। 

डीयू में फरीदाबाद-पलवल विद्यार्थियों की संख्या: 7000--जिन कॉलेजों पर असर: मोतीलाल नेहरू कॉलेज, भगत सिंह कॉलेज, पीजीडीएवी कॉलेज, किरोड़ीमल कॉलेज, देशबंधु कॉलेज, अरविंदो कॉलेज, शिवाजी कॉलेज, राजधानी कॉलेज, दयालसिंह कॉलेज।
जेएनयू में हरियाणा विद्यार्थियों की संख्या: 350 
ये है एबीवीपी का घोषणा पत्र---बदरपुर बार्डर पर नया कॉलेज व हॉस्टल खुलवाना। एनसीआर के विद्यार्थियों के लिए स्पेशल बस सुविधा मुहैया कराना। छात्रों को मार्कशीट की प्रतिलिपि हाथों-हाथ दिलवाना। डीयू की एकेडमिक काउंसिल में भी डूसू को प्रतिनिधित्व दिलाना। छात्रों ने हेल्थ कार्ड शुरू करवाना। उत्तरी परिसर की तरह दक्षिणी परिसर में भी डूसू ऑफिस खोलना। एनसीआर विद्यार्थियों के लिए मेट्रो फीडर व मेट्रो रियायती पास, डीटीसी बसों को बढ़ाना आदि। 

प्रेस वार्ता में उनके साथ  डॉ घनश्याम वत्स, नैंसी चौधरी, बलराम भारद्वाज, दामोदर भारद्वाज, पवन सौरोत, मोहम्मद इस्ताक, मनिंदर, संतोष, जयप्रकाश, रासबिहारी, सचिन मांडोतिया, मनीष टोंगर, गौरव मेहरा,कविता , सौरभ नर्वत, सोनाली, प्रिया कुमारी, भावना जैन, अरुण निर्माणीय मौजूद रहे। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: