Tuesday, September 20, 2016

प्रदेश के सभी 2.50 करोड़ लोगों के हेल्थ कार्ड बनाये जाएंगे;- अनिल विज



चंडीगढ़, 20 सितम्बर(abtaknews.com ) हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज ने कहा कि प्रदेश के सभी 2.50 करोड़ लोगों को हेल्थ कार्ड बनाये जाएंगे, जिसमें 30-35 बीमारियों की जांच नियमित तौर पर की जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री की अध्यक्षता में आयोजित विभाग की समीक्षा बैठक में यह निर्णय लिया गया है। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री राजन गुप्ता, आयुष विभाग के महानिदेशक डॉ. साकेत कुमार, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. कमला सिंह सहित अनेक वरिष्ठï अधिकारी मौजूद थे।
 
श्री विज ने बताया कि प्रदेश के सभी लोगों के हेल्थ कार्ड में रक्त, लिवर, किडनी, टीबी सहित सभी महत्वपूर्ण बीमारियों की नियमित जांच की जाएगी तथा उनके उपचार के आवश्यक दिशा-निर्देश दिये जाएंगे। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश के लोगों में विभिन्न बीमारियों एवं संबंधित क्षेत्रों के विषय में पूरी जानकारी प्राप्त हो सकेगी, जिसपर विभाग तत्परता से रोकथाक के कार्य करने में सक्षम होगा।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इसके अलावा, प्रदेश के हाईवे पर सडक़ दुर्घटनाओं से मरने वाले लोगों को बचाने के लिए अटल जीवन रक्षक योजना की शुरूआत करने का विचार है। इसके तहत प्रदेश के सभी हाईवे पर उपकरणों से सुसज्जित एम्बूलैंस की व्यवस्था करवाने की योजना है, जिनको निश्चित दूरी पर रखा जाएगा ताकि सडक़ दुर्घटनाओं से पीडि़त लोगों को शीघ्र सहायता मुहैया करवाई जा सके।
------------------
 
चंडीगढ़, 20 सितम्बर- हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज ने डेंगू, मलेरिया एवं चिकनगुनिया के मामले बढऩे के बावजूद गैर कानूनी हड़ताल पर जाने वाले प्रदेशभर के गैर हाजिर लैब टेक्रिशियन को निलम्बित करने के आदेश जारी कर दिये हैं। इसके साथ अनुबंध आधार पर कार्यरत लैब टेक्रिशियन की सेवाएं रद्द कर दी गई है। श्री विज ने कहा कि प्रदेश के अस्पतालों में कार्य को बाधित नहीं होने दिया जाएगा, जिसके चलते शीघ्र ही अनुबंध आधार पर नये लैब टेक्रिशियन की भर्ती शुरू की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जल जनित बीमारियों के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, ऐसेे में लैब टेक्रिशियन मात्र 3 दिन का नोटिस देकर हड़ताल पर चले गये हैं, जोकि मानवता के भी अनुकूल नहीं है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस दौरान युनियन के कुछ कर्मचारियों ने विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव से मुलाकात की, जिस पर मंत्री ने उन कर्मचारियों को विशेष तौर पर निलम्बित करने के आदेश दिये, जिनके हस्ताक्षर प्रार्थना पत्र पर थे। इसके साथ ही जिन कर्मचारियों ने आज सुबह ड्यूटी ज्वाइन नही की उन सभी को भी निलम्बित करने के निर्देश दिये हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मरीजों को परेशानी से निजात दिलाने के लिए सरकार ने इस हड़ताल को गैर कानूनी घोषित किया था और सभी लैब टेक्रिशियन को तुरन्त काम पर लौटने के निर्देश दिये थे। इसके बाद कुछ लैब टेक्रिशियन ने ड्यूटी ज्वाइन की  परन्तु अनेक कर्मचारी अभी तक अपनी ड्यूटी से नदारद पाये गये थे। इन सभी गैर हाजिर नियमित लैब टेक्रिशियन को निलम्बित तथा अनुबंध आधार पर कार्यरत कर्मचारियों की सेवाएं रद्द कर दी गई हैं।

श्री विज ने बताया कि हमारी सरकार सभी संघों एवं एसोसिएशन की मांगों पर सौहार्दपूर्वक विचार करती रही है परन्तु ये सभी लैब टेक्रिशियन अपनी मांगों की आड़ में राजनीति करने लगे हैं, जिसको सभ्य समाज में कभी स्वीकार नही किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए शीघ्र नई भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जाएगी तथा जब तक नई व्यवस्था नही हो पाती तब तक विभाग के चिकित्सक एवं नर्सिंग स्टाफ लोगों की सेवाएं करेंगे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: