Thursday, August 18, 2016

उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने बहन-बेटियों को भेंट की साडिय़ां, बंधवाए रक्षा सूत्र


फरीदाबाद 18 अगस्त2016(abtaknews.com )भारत त्यौहारों का देश है। यहां समय-समय पर पर अनेको त्यौहार मनाए जाते है । हर त्यौहार का अपना विशेष महत्व है। इन त्यौहारों में रक्षा बंधन के त्यौहार की अपनी ही गरिमा है, जो भावनात्मक रिश्तों को मजबूत करता है । यह विचार कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल ने आज आज इंद्रा कॉलोनी स्थित गुरूद्वारे के प्रांगण में रक्षा बंधन के अवसर पर आयोजित समारोह में उपस्थित बहन- बेटियों को साड़ी वितरित करते हुए कहे। रक्षा बंधन के अवसर पर उपहार स्वरूप लगभग 2 हजार बहन- बेटियों को साडिय़ा भेंट की गई। विपुल गोयल ने कहा कि रक्षा बंधन, पौराणिक, धार्मिक तथा एतिहासिक भावनाओं से जुड़ा त्यौहार भी है जिससे अलग-अलग मानयताएं जुड़ी हुई है जो हर वर्ग को एक दूसरे से जोडऩे का प्रयास करता है । कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल ने रक्षा बंधन के अवसर पर क्षेत्रवासियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रदेश सरकार महिलाओं के कल्याण हेतु बेटी बचाओं-बेटी पढाओं, मुख्यमंत्री विवाह शगुन योजना जैसी अनेको जन कल्याण कार्य योजनाओं का क्रियानवन कर रही है ताकि महिला वर्ग को इन योजनाओं का विशेष लाभ मिल सके ।
इस अवसर पर विशेष तौर पर उपस्थित श्री सिद्धदाता आश्रम के अधिपति जगतगुरु रामानुजाचार्य स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य महाराज ने उपस्थित जनों को अपना आशिर्वाद देते हुए कहा कि रक्षा बंधन का त्यौहार श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है श्रावण मास में ऋषिगण आश्रम में रहकर अध्ययन और यज्ञ करते थे । श्रावण पूर्णिमा को मासिक यज्ञ की पूर्ण आहूति दी जाती थी। यज्ञ की समाप्ती पर यजमानों और शिष्यों को रक्षा- सूत्र बांधने की प्रथा थी। इस परम्परा का निर्वाह गुरू शिष्य रक्षा सूत्र बांधकर आज भी करते है। समारोह में उपस्थित महिलाओं, बहन-बेटियों ने कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल और श्रीमद जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य महाराज को रक्षा सूत्र भी बांधे।  इस अवसर पर युवा भाजपा नेता अमन गोयल, कमल जख्मी, राहुल चावला, आयुष महेशवरी, सतपाल शर्मा, ज्ञानेंद्र शर्मा, राज कुमार भारद्वाज, धर्मापल, धर्मपाल, हट्टी ठेकेदार, पूरण देवी, इंद्रा, मनोज शर्मा, संजीव सैनी, प्रकाश शर्मा, रघुवीर सिंह, प्रकाश पाठक, लेखराज मेहरा, गोपाल शर्मा कैलाश शर्मा, प्रवीण, रघुवीर सिंह आदि मौके पर मौजूद थे ।


loading...
SHARE THIS

0 comments: