Thursday, August 4, 2016

राजबल सिंह, छुटभैया नेता पुलिस व मीडिया को कर रहे हैं गुमराह;- यादव



फरीदाबाद-अगस्त, सरूरपुर औधौगिक क्षैत्र में तथाकथित फैक्ट्री पर कब्जा करने का मामला पूरी तरह से झूठा व फर्जी है । उक्त मामलें में आज दूसरे पक्ष के लोगों ने सहायक पुलिस आयुक्त श्री राजेश चेची से मिलकर अपना पक्ष रखा व उन्हें सच्चाई से अवगत करवाया । 
15 मार्च 2016 को इक्यासी लाख पचास हजार रूपये में मैनें खरीदा यह प्लाट : यादव
24 जून 2016 को राजबल सिंह ने धोखधड़ी से अवैध तरीके से कराई प्लाट की अवैध रजिस्ट्री
                                     इस मामले में आज दूसरे पक्ष के संजय काोनी निवासी ब्रहमानंद यादव ने क्षैत्र के मौजिज लोगों के साथ सहायक पुलिस आयुक्त से मिलकर उन्हें बताया कि मैनें उक्त प्लाट के मालिक संदीप कुमार पुत्र श्री राधेश्याम पांडे निवासी चावला कालोनी से उक्त प्लाट का सौदा इक्यासी लाख पचास हजार रूपये में तय किया था, जिसके तहत उसे पचहतर लाख रूपये नकद दे दिए थे, बाकि पैसे रजिस्टरी पर देने तय किए थे । इस बाबत दोनो के बीच बल्लबगढ तहसील में सब-रजिस्ट्रार के समक्ष एक रजिस्र्टड एग्रीमैंट भी हुआ था, जोकि सब-रजिस्ट्रार बल्लबगढ के कार्यालय रिकार्ड में दिनांक 15 मार्च 2016 को क्रमांक न.-13987 , बही न.-1, जिल्द न.-2 के प्रष्ठ न.-68 पर रजिस्र्टड है । बाद में राजबल सिंह व संदीप ने धोखाधड़ी करते हुए 24 जून 2016 को उक्त प्लाट की रजिस्ट्री राजबल के नाम अवैध तरीके से कर दी । इस प्रकार उक्त दोनो ने मेरे साथ जालसाजी व धोखाधड़ी की है । इनके इस फ्राड में कई छुटभैया नेता भी इनके साथ मिले हुए हैं । 

माननीय जिला न्यायालय में सिविल सूट दायर करने के बाद से ही हूं मौका पर मालिक काबिज : यादव 
     संदीप की आनाकानी पर माननीय जिला न्यायालय में दायर किया केस :-        ब्रहमानंद यादव ने ए. सी. पी. को बताया कि संदीप से मैने रजिस्ट्री की बाबत कई बार बात की तो बह आनाकानी करने लगा । संदीप की नीयत पर शक होने पर मैने माननीय जिला न्यायालय फरीदाबाद की शरण ली व  25 जुलाई को माननीय न्यायालय में सिविल सूट न. 694 दायर कर दिया , जिसमें संदीप ने कोर्ट में पेश होकर ब्यान दिया था कि उसने वादी यानि ब्रहमानंद यादव को प्लाट बेच दिया है तथा कब्जा उसके पास दे दिया है । अभी रजिस्ट्री बंद है, रजिस्ट्री खुलते ही मैं ब्रहमानंद यादव के पक्ष में रजिस्ट्री करवा दूंगा । तब से मैं उक्त प्लाट का मालिक काबिज हूं तथा रोज अपने प्लाट पर लगातार जा रहा हूं । 

राजबल सिंह ने गुंडों के बल पर करना चाहा प्लाट पर अवैध कब्जा, 24 जून को कराई अवैध रजिस्ट्री, गुंडों से बचने हेतु मेरे दोस्त ने किया अपनी लाइसैंसी रिवाल्वर से हवाई फायर , हवाई फायर न करते तो हमें जान से मार देते राजबल के गुंडे , राजबल ने अपने सी.सी.टी.वी. कैमरे से डिलीट करवायी रिकार्डिगं , संदीप के साथ मिलकर राजबल ने की है मेरे साथ धोखाधडी : यादव

                   रोजाना की भांति 30 जुलाई को मैं अपने दोस्त अंगद चौरसिया के साथ अपने प्लाट पर बैठा हुआ था कि राजबल सिंह अपने साथ 40-50 गुंडों के साथ मेरे प्लाट पर आ धमका व मुझ पर और मेरे दोस्त पर हमला कर दिया । मेरे दोस्त पर लाइसैंसी रिवाल्वर थी, जिसने उसने आत्मरक्षा में हवाई फायर कर दिया, जिससे वे सभी लोग भाग गए । बाद में राजबल ने हमें बताया कि उसने यह प्लाट संदीप से 24 जून 2016 को खरीद लिया है । इस पर हमने उसे बताया कि यह प्लाट तो हमने पहले ही 15 मार्च 2016 को संदीप से खरीद रखा है तथा हम इसके मालिक काबिज है । इस प्रकार संदीप व राजबल सिंह ने मिल कर मेरे साथ धोखाधड़ी व साजिश रची है तथा इस आपराधिक साजिश में कई छुटभैया नेता भी शामिल हैं । राजबल के गुंडों द्वारा हम-मशविरा होकर हमलें के लिए निकलने की तस्वीरे राजबल की कंपनी के सी.सी.टी.वी. कैमरे में कैद हो गई थी, परंतु राजबल ने उक्त फुटेज को ही अपने सी.सी.टी.वी. कैमरे के रिकार्ड से डिलीट करवा दिया है । 
कुछ छुटभैया नेता कर रहे हैं मेरे प्लाट को हडपने की साजिश : यादव माननीय न्यायालय व कानून व्यवस्था पर है मुझे पूरा भरोसा : यादव

                   ब्रहमानंद यादव के मुताबिक क्षैत्र के कुछ छुटभैया किस्म के नेता षड्यंत्र के तहत मेरे इस प्लाट को हड़पना चाहते हैं, इसी के लिए उन्होनें आपस में मिलकर यह आपराधिक साजिश व सारा झूठा ड्रामा रचा है । यादव ने कहा कि माननीय न्यायालय व कानून व्यवस्था पर मुझे पूरा भरोसा है । इस मामले में जल्द ही दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा । ब्रहमानंद यादव ने कहा कि उनके खिलाफ साजिश करने वाले छुटभैया नेताओं को भी वो कोर्ट में घसीटेंगे तथा इस सारी साजिश का खुलाशा होने तक चुप नही बैठेगें । 
ब्रहमानंद यादव के साथ भाजपा नेता मुकेश डागर, सुमेर डागर, पप्पू जांगडा, धर्मबीर गोदारा, समाजसेवी आनंद भडाना, सुखबीर डागर, किशन गोयल, एडवोकेट कैलाश शर्मा, एडवोकेट राजेश शर्मा, अनिल भडाना, परविन्द्र सिंह, संजय पहलवान, इशू खान, त्रिलोक पंडित, योगेश चोपडा, बुद्धा खान, पाली सिंह रावत, किशन बारी, ललित गोयल, राजीव गोयल , संजय तनेजा, मनीश वधवा, अमित खत्री व सुनील गेरा भी सहायक पुलिस आयुक्त से मिले । 


loading...
SHARE THIS

0 comments: