Tuesday, August 30, 2016

भारत में डिजिटल विभाजन को समाप्‍त करने के लिए सी-डॉट सक्रिय हो: मनोज सिन्‍हा


संचार मंत्री श्री मनोज सिन्‍हा ने सी-डॉट से आग्रह किया है कि वह डिजिटल क्रान्ति के जरिये भारत परिवर्तन संबंधी प्रधानमंत्री के दृष्टिकोण को पूरा करने के लिए नये अन्‍वेषणों, नये अनुसंधानों और नई प्रौद्योगिकी पर काम करे। सी-डॉट के स्‍था‍पना दिवस के अवसर पर आज यहां प्रमुख वक्‍तव्‍य देते हुए श्री सिन्‍हा ने कहा कि इस समय नवाचार की बहुत आवश्‍यकता है क्‍योंकि भारत सीमित संसाधनों के बल पर विकसित अर्थव्‍यवस्‍थाओं की बराबरी करने की स्थिति में नहीं है। उन्‍होंने कहा कि अगर भारत आने वाले 15 से 20 वर्षों के दौरान उभरती हुई प्रौद्योगिकी की बराबरी नहीं कर पायेगा तो देश का अस्तित्‍व दांव पर लग जायेगा। उन्‍होंने अधिकारियों और अन्‍य हितधारकों का आह्वान किया कि वे ‘दावों के अनुरूप कार्य’ करें। उन्‍होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों सहित देश की बड़ी आबादी को डिजिटल संदर्भ में अधिकारसम्‍पन्‍न बनाना हमारा प्रमुख कर्तव्‍य है क्‍योंकि ये क्षेत्र अब तक सूचना प्रौद्योगिकी क्रान्ति से वंचित हैं। उन्‍होंने कहा कि डिजिटल विभाजन को यथाशीघ्र समाप्‍त किया जाना चाहिए।

श्री सिन्‍हा ने जीपीओएन प्रौद्योगिकी के लिए सी-डॉट को बधाई दी और आशा व्‍यक्‍त की कि मार्च 2017 तक एक लाख ग्राम पंचायतें ऑपटिकल फाइवर केबल के जरिये जुड़ जायेगीं। इस तरह ग्रामीण जनता को एक नेटवर्क संरचना मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि सब लोग इस समय पूरे उत्‍साह के साथ यह प्रयास कर रहे है कि एक निश्चित अवधि के अंदर ब्रॉडबैंड नेटवर्क के जरिये ढाई लाख ग्राम पंचायतों को जोड़ा जाये, जो प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी का दृष्टिकोण है। श्री सिन्‍हा ने 18 उत्‍पादों और 56 प्रौद्योगिकी हस्‍तांतरण जारी करने के लिए सी-डॉट की प्रशंसा की। उन्‍होंने कहा कि इसे 100 तक बढ़ाने की आवश्‍यकता है। उन्‍होंने साइबर सुरक्षा संबंधी सी-डॉट की भूमिका को भी सराहा।

इस अवसर पर दूर संचार सचिव श्री जे. एस. दीपक ने कहा कि भारत डॉटा क्रान्ति के द्वार तक पहुंच गया है और सी-डॉट का भविष्‍य बहुत उज्‍ज्वल है। उन्‍होंने कहा कि सी-डॉट ने मल्‍टी-टेराबिट राउटर बनाया है तथा स्‍मार्ट सिटी सॉल्‍युशन्‍स और रक्षा एवं नागरिक क्षेत्रों के लिए सुरक्षा सॉल्‍युशन्‍स उपलब्‍ध करा रहा है।

इस अवसर पर मंत्री महोदय ने सी-डॉट द्वारा विकसित तीन नये उत्‍पाद-डब्‍ल्‍यूडीएम, पीओएन (डब्‍ल्‍यूडीएन) और संवाद एप्‍प भी जारी किये। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: