Saturday, August 20, 2016

स्कूली बच्चे ना स्वयं बुरी आदतों के शिकार बने ना ही दूसरों को बनने दें


फरीदाबाद 20 अगस्त,2016(abtaknews.com )जनसेवावाहिनी के महासचिव दिवाकर मिश्रा ने कहा कि बहुमुल्य जीवन में बच्चे ना स्वयं बुरी आदत का शिकार बने और ना ही दूसरों को बनने दें। बुरी आदतें छोडऩे की आपकी एक मार्मिक अपील आपके पैरेंट्स का जीवन बचा सकती है। इसलिए ना स्वयं बुरी आदतों का शिकार हों ना ही दूसरों को होने देंं। स्वस्थ समाज निर्माण मेें बच्चों की भागीदारी बेहद महत्वपूर्ण है। आज की भागदौड भरी जिंदगी में सही खानपान न होने से बिमारियों का ग्राफ तेजी से बढ रहा है। दैनिक दिनचर्या ठीक रहे तो हर तरह की बीमारी से बचा जा सकता है। कैंसर के प्रति जागरूकता ही एकमात्र विकल्प है। 

सेक्टर 23 ए स्थित द्रोणाचार्य पब्लिक स्कूल में जागरूकता कार्यक्रम में स्कूली बच्चोंं को संबोधित करते हुए दिवाकर मिश्रा ने उक्त वक्तव्य दिया। श्री मिश्रा ने कहा कि कैंसर होने के कारण, लक्षण एवं बचाव के तरीकों को बच्चों को विस्तारपूर्वक बताया। बच्चों से अपील करते हुए कहा कि यदि वे गलत संगत में या फिर बीडी, सिगरेट, तंबाकू का सेवन करने वाले अपने माता-पिता, रिश्तेदार और आस पडौस के लोगों को अपनी मार्मिक अपील से ऐसा करने से रोक सके तो हमारे सर्व स्वस्थ समाज की कल्पना बहुत जल्द साकार हो जाएगी। श्री मिश्रा ने बच्चों को केंसर के अलावा हेपेटाइटिस-बी के बारे में भी विस्तारपूर्वक बताया और बच्चों से संकल्प दिलवाया कि ना खुद बुरी आदतों के शिकार होगें ना ही दूसरों को होने देगें। 
श्री मिश्रा ने कहा कि छात्र इस मुहिम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर समाज का भला कर सकते हैं। यदि स्कूली बच्चे अपने अभिभावकों को बुरी लत छोडने की अपील करें क्योंकि उनकी मार्मिक अपील से निश्चित तौर पर 80 फीसदी पैरेंट्स तंबाकू, सिगरेट, गुटका, पान मसाला, अल्कोहल एवं अन्य नशे की लत को छोड सकते हैं। हमारे देश में विगत एक साल में 9 लाख मौतें मुंह के कैंसर से हुई हैं। मुंह का कैंसर तंबाकू से होता है। अगर हम अपने बच्चों को इस धीमे जहर से बचा लेते हैं या दूर रखते हैं तो निश्चित रूप से देश का भविष्य सुरक्षित ही नही बल्कि स्वस्थ भी होगा। जनसेवावाहिनी संस्था आपके साथ व सहयोग से समाज के जरूरतमंद की हर स्तर पर मदद करती है। संस्था कैंसर पीडितों को यथासंभव आर्थिक सहयोग करती है। बुरी आदतों के शिकार लोगों की निुशल्क काउंसलिंग कर उन्हें स्वस्थ जीवन जीने के लिए प्रेरित करती है। कार्यक्रम के उपरांत द्रोणाचार्य पब्लिक स्कूल  की हर्ष चौधरी, डायरेक्टर एस कुमार, स्कूल प्रिंसीपल लक्ष्मी बोथरा, सलाहकार,पी कौशिद को स्मृति चिंह भेंट किया गया। सेमीनार के आयोजन के लिए स्कूल चेयरमैन नवीन चौधरी ने संस्था की सामाजिक गतिविधियों की प्रशंसा करते हुए हरसंभव मदद करने का आश्वासन दिया। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: