Wednesday, August 31, 2016

मानव रचना सेंटर आफ फॊरेन लैंग्वेजिस ने मनाई ग्रेजुएशन सैरीमनी





फरीदाबाद -अगस्त 31,2016(abtaknews.com ) मानव रचना सेंटर आफ फॊरेन लैंग्वेजिस (एमआरसीएफएल) के द्वारा बुधवार को ग्रेजुएशन सैरीमनी का आयोजन किया गया। एमआरआईयू कैंपस में आयोजित की गई सैरीमनी में स्टूडेंट्स को सर्टिफिकेट दिए गए। एमआरसीएफएल फॊरेन लैंग्वेज की सुविधा स्टूडेंट्स को प्रदान करता हैं। इस सेंटर में अंग्रेजी के साथ-साथ स्पैनिश, जर्मन, चाइनीज, जैपीनीज, फ्रैंच व एरेबिक आदि भाषाएं सिखाई जाती हैं। स्टूडेंट्स को विदेशी भाषाओं में महारत दिलाने वाले सेंटर ने ग्रेजुएश सैरीमनी का आयोजन पूरे उत्साह के साथ किया। इस मौके पर बतौर मुख्य अतिथि सीरिया एंबेसी से एंबैसडर डॊ. रियाद कामेल अब्बास पहुंचे। इस मौके पर मानव रचना इंटरनैशनल यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॊ. एन.सी.वाधवा व एमआरईआई के एमडी व मानव रचना यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर डॊ. संजय श्रीवास्वत मौजूद रहे।

कार्यक्रम की शुरुआत संगीत के साथ की गई। स्टूडेंट्स ने विदेशी भाषाओं में गाने गाकर विदेशी भाषाओं के प्रति अपने प्रेम व सम्मान का प्रदर्शन किया। डॊ. एन.सी.वाधवा ने सभी का स्वागत करते हुए अपने संबोधन में कहा कि आज के प्रतिस्पर्धा के दौर में स्टूडेंट्स को विदेशी भाषाओं का ज्ञान प्राप्त करने की सुविधा दी जा रही है। विदेशी भाषाओं के ज्ञान के साथ उन्हें अन्य देशों में नौकरी करने के लेकर भविष्य के कई उज्जवल अवसर प्राप्त हो सकते हैं। एमआरसीएफएल में स्टूडेंट्स ने १ साल के दौरान बेहतर प्रदर्शन करते हुए ज्ञान प्राप्त किया है, इसी उपलब्धि पर उन्हें सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया है। 
इस मौके पर स्टूडेंट्स को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि डॊ. अब्बास ने कहा कि मैं इस सैरीमनी का हिस्सा बनकर गौरांवित महसूस कर रहा हूं। ज्ञान मानवता को बढ़ावा देने में अहम योगदान निभाता है। हर भाषा एक नई जिंदगी को लेकर आती है। इसे अपने देश के विकास के लिए प्रयोग करें व अपनी भाषाओं को न भूलें। कार्यक्रम में अपनी जिंदगी के कुछ सच्चे अनुभव बांटते हुए डॊ. संजय श्रीवास्तव ने सभी को धन्यवाद अर्पण किया। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: