Wednesday, August 10, 2016

आशा वर्करों ने अपनी मांगों को लेकर सिविल अस्पताल परिसर में दिया धरना


 

फरीदाबाद-अगस्त 09,2016(abtaknews.com) पक्का करने और छंटनी बंद करने की मांग को लेकर आशा वर्करों ने फरीदाबाद के सिविल अस्पताल परिसर में धरना- प्रदर्शन किया। आशा वर्करों ने बताया कि अभी उनका दो दिवसीय सांकेतिक धरना-प्रदर्शन है, अगर सरकार ने उनकी मांगों को पूरा नहीं किया तो यह अनिश्चितकालिन भी हो सकता है। 
बी के हॉस्पिटल परिसर में आशा वर्करों ने बड़ी संख्या एकत्रित होकर सरकार के खिलाफ नारेबजी की और धरना दिया है, जिन्हे गांवों में आशा बहनजी के नाम से जाना जाता है। लेकिन अपनी नौकरी खतरे में देख और मानदेय के नाम पर अधिक न मिलने से नाराज ये आशा वर्कर आज स्वंय धरना-प्रदर्शन करने पर मजबूर है। जितेन्द्र मोर, यूनियन नेता  ने बताया कि इनकी मांग है कि उन्हे भी दूसरे कर्मचारियों की तरह नियमित किया जाएं और छंटनी बंद की जाएं। सातवे वेतन आयोग के तर्ज पर उनका मानदेय भी दो गुणा किया जाएं। अभी सरकार की ओर से उन्हे जो मानदेय मिलता है, उसमें गुजारा चलाना भी मुश्किल है। 
मंजीत हूड्डा को -ऑर्डिनेटर आशा वर्कर  ने बताया कि एनआरएचएम के तहत काम करने के कारण उनकी नौकरी पर सदैव छंटनी की तलवार लटकी रहती है। जबकि वे दूसरे कर्मचारियों से अधिक काम करती है। उन्होने चेतावनी दी कि अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो यह धरना-प्रदर्शन अनिश्चितकालिन भी हो सकता है। 




loading...
SHARE THIS

0 comments: