Monday, August 1, 2016

बरसात ने खोली भाजपा सरकार के विकास के दावों की पोल : धर्मबीर भड़ाना



फरीदाबाद-जुलाई 01,2016(abtaknews.com )पिछले दिनों से लगातार हो रही बरसात ने औद्योगिक नगरी फरीदाबाद को पूरी तरह से जलमग्र कर दिया है। शहर के पॉश सेक्टरों के साथ-साथ कालोनियों में भी सडक़ें तो सडक़ें लोगों के घरों व दुकानों में पानी घुस गया है, जिससे लोगों का जन-जीवन पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। बडखल विधानसभा क्षेत्र के एसजीएम नगर में भी लोगों के घरों में 5-5 फुट पानी भर गया, जिससे घरों में रखा सामान पूरी तरह से खराब हो गया। जलभराव की सूचना मिलने पर आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता धर्मवीर भड़ाना आज कार्यकर्ताओं के साथ एसजीएम नगर पहुंचे और उन्होंने जलभराव क्षेत्रों का जायजा लिया। इस मौके पर धर्मवीर भड़ाना ने कहा कि कई दिनों से रूक-रूककर हो रही बरसात से जहां नगर निगम प्रशासन की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगा दिया है वहीं भाजपा सरकार के विकास के दावों की भी पूरी तरह से पोल खोल दी है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता अभियान चलाने वाले भाजपा नेता अब कहां छुप गए है, जब लोगों के घरों में 5-5 फुट पानी भर गया है। लोगों को झूठे वायदे दिखाने वाली भाजपा सरकार का असली चेहरा अब लोगों के समक्ष पूरी तरह से उजागर हो चुका है। धर्मवीर भड़ाना ने कहा कि स्थानीय विधायिका ने चुनाव से पूर्व बडखल विधानसभा क्षेत्र में सीवरेज, सडक़ें, सफाई, बिजली जैसी बुनियादी सुविधाओं को पूरा करने का वायदा किया था परंतु सत्ता में आने के बाद विधायिका अपने सभी वायदे भूल गई और आज क्षेत्र की जनता जलभराव से त्राहि-त्राहि कर रही है और विधायिका अपने निवास पर आराम फरमा रही है। श्री भड़ाना ने कहा कि हवा में विकास की बात करने वाले भाजपा नेता दो वर्ष में विकास के नाम पर कुछ नहीं कर पाए है, केवल आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति करके लोगों को गुमराह करने का काम कर रहे है और ऐसे नेताओं को जनता आने वाले चुनावों में सबक सिखाने का मन बना चुकी है। आप नेता धर्मवीर भड़ाना ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द ही जलभराव क्षेत्रों में जलनिकासी की व्यवस्था नहीं की गई तो वह स्थानीय विधायिका के निवास का घेराव करने से भी गुरेज नहंी करेंगे। इस मौके पर राजूद्दीन, राजे पांचाल, सुनील ग्रोवर, सतपाल अवाना, टीकाराम, ईमरत खान, मनोज भाटी, मनोज अघौरी, विनोद भड़ाना, अशोक, श्यामबीर भडाना सहित सैकड़ों आप कार्यकर्ता मौजूद थे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: