Thursday, August 18, 2016

गैंग रेप पीडिता के आधे अधूरे बयान, मेडिकल की सिर्फ औपचारिकता, आरोपी अभी भी फरार



फरीदाबाद-18अगस्त,2016(abtaknews.com)कानून की रक्षा करने वाली पुलिस ही कैसे कानून से खेलती है। फरीदाबाद महिला पुलिस इसका जीता जागता सबूत है। पुलिस के खाखी पेन से लिखी जा रही झूठी कहानी में एक गैंग रेप पीडिता पिस कर रह गई है। चार माह बाद बीत जाने के बाद जब यह मामला जब मीडिया ने उठाया तो आनन फानन में एफआईआर दर्ज करने की रस्म अदायगी की गई। पीडिता ने कहा कि महिला पुलिस थाना आरोपियों से मिली हुई है जिन्हें बचाने के लिए मेरे अनपढ़ होने का फायदा उठाते हुए मेरे आधे अधूरे बयान दर्ज किए। अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी नही हो पाई है।
गैंग रेप पीडिता ने पुलिस आयुक्त डॉक्टर हनीफ कुरैशी को दी गई शिकायत को ही अपना असली बयान बताया। लेकिन महिला पुलिस ने कहा कि इसमें एएसआई माया रानी पर भी आरोप है इसलिए दी हुई शिकायत की सभी घटनाओं को हम दर्ज कर देते हैं लेकिन साजिश के तहत ऐसा नही किया। पुलिस कर्मियों ने स्वयं एक नई शिकायत लिखी और उसपर पीडिता के आधी अधूरी बाते लिखकर उस पर साईन करा लिए।
महिला पुलिस ने पीडिता के मेडिकल के नाम पर महज खानापूर्ति की, पीडिता ने बताया कि मेडिकल के दौरान अस्पताल में ही आरोपी रामपाल, तन्नू और उनके दो अन्य साथी वहां मौजूद थे। मेरा इन्होंने मेडिकल नही होने दिया। पीडिता ने कहा कि तन्नू और ऋतु शर्मा के सहयोग से ही  मेरे साथ गैंग रेप की वारदात हुई उन्ही दोनो को आरोपी नही बनाया। पीडिता को अभी भी आरोपी जान से मारने की धमकी देते हैं।

loading...
SHARE THIS

0 comments: