Friday, August 5, 2016

रेल मंत्रालय और छत्तीसगढ़ ने ‘संयुक्त उद्यम कंपनियों के गठन’ समझौते पर हस्ताक्षर किए


नई दिल्ली-अगस्त05,2016(abtaknews.com)रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु और छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री श्री रमन सिंह की गरिमामय उपस्थिति में ‘संयुक्‍त उद्यम कंपनी के गठन’ के लिए रेल मंत्रालय और छत्‍तीसगढ़ की राज्‍य सरकार के बीच एक संयुक्‍त उद्यम समझौते पर हस्‍ताक्षर किए गए। इस अवसर पर केंद्रीय विद्युत, कोयला और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा तथा खान राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री पीयूष गोयल भी विशेष रूप से उपस्थित थे। सदस्‍य (इंजीनियरिंग) श्री आदित्‍य कुमार मित्‍तल, बोर्ड के अन्‍य सदस्‍य और वरिष्‍ठ अधिकारीगण भी इस अवसर पर मौजूद थे। रेल मंत्रालय की ओर से कार्यकारी निदेशक (वर्क्‍स) श्री एस. सी. जैन ने संयुक्‍त उद्यम (जेवी) समझौते पर हस्‍ताक्षर किए, जबकि छत्‍तीसगढ़ सरकार की ओर से छत्‍तीसगढ़ सरकार के वाणिज्‍य एवं उद्योग विभाग में सचिव और छत्‍तीसगढ़ सरकार के मुख्‍यमंत्री के सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह ने इस समझौते पर दस्‍तखत किए। राज्‍यों के साथ मिलकर संयुक्‍त उद्यमों की स्‍थापना से संबंधित रेल मंत्री की बजट घोषणा के मद्देनजर इस समझौते पर हस्‍ताक्षर किए गए हैं, जिसका उद्देश्‍य परियोजना विकास पर ध्‍यान केंद्रित करना, संसाधन जुटाना, भूमि अधिग्रहण, परियोजना का क्रियान्‍वयन और महत्‍वपूर्ण रेल परियोजनाओं की निगरानी करना है। 

इस अवसर पर केंद्रीय रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने कहा कि छत्‍तीसगढ़ सरकार के साथ आज किए गए समझौते से देश की अर्थव्‍यवस्‍था को नई गति मिलेगी क्‍योंकि छत्‍तीसगढ़ एक ऐसा राज्‍य है जहां प्राकृतिक संसाधन भरपूर मात्रा में उपलब्‍ध हैं। उन्‍होंने कहा कि कोयले एवं अन्‍य वस्‍तुओं की समुचित खोज और आपूर्ति से हमारी अर्थव्‍यवस्‍था के विकास को नई गति मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए यही बेहतर होगा कि सभी राज्‍य सरकारें रेल मंत्रालय के साथ हाथ मिलाएं और हमारे साथ भागीदार बन जाएं। उन्‍होंने कहा कि इस तरह के समझौते पर हस्‍ताक्षर प्रधानमंत्री की सहकारी संघवाद संबंधी अवधारणा के अनुरूप है। 
अपने संबोधन में छत्‍तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री श्री रमन सिंह ने नए रेल बुनियादी ढांचे के विकास हेतु छत्‍तीसगढ़ राज्‍य का समर्थन करने के लिए रेल मंत्रालय का धन्‍यवाद किया। उन्‍होंने कहा कि अत्‍यंत अल्‍प अवधि में ही छत्‍तीसगढ़ राज्‍य में 760 किलोमीटर लम्‍बी अतिरिक्‍त रेल लाइनों का फैलाव हो गया है, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है। उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में बेहतर रेल नेटवर्क से राज्‍य को अपनी पूर्ण क्षमता के साथ प्राकृतिक संसाधनों का प्रसंस्करण करने में मदद मिली है। 
इस अवसर पर केंद्रीय विद्युत, कोयला और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा तथा खान राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री पीयूष गोयल ने कहा कि छत्‍तीसगढ़ राज्‍य में संयुक्‍त उद्यम कंपनी के गठन से रेल लाइनों एवं रेल रेक को भीड़-भाड़ से मुक्‍त करने में मदद मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि रेल मंत्रालय के उचित प्रयासों की बदौलत देश के समस्‍त विद्युत संयंत्रों में अधिशेष स्‍टॉक के साथ कोयला उपलब्‍ध है। उन्होंने कहा कि आज के समझौते पर हस्ताक्षर किया जाना एक प्रगतिशील और दूरदर्शी कदम है। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: