Wednesday, August 10, 2016

वाईएमसीए में सड़क सुरक्षा पर परिचर्चा तथा रक्तदान शिविर का आयोजन



फरीदाबाद, 10 अगस्त,2016(abtaknews.com )वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, फरीदाबाद द्वारा रोटरी क्लब, फरीदाबाद ईस्ट तथा सड़क सुरक्षा जागरूकता के लिए समर्पित संस्था मार्गदर्शन के सहयोग से विश्वविद्यालय परिसर में सड़क सुरक्षा पर परिचर्चा तथा रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया। रक्तदान शिविर में लगभग 250 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान किया।रक्तदान शिविर का उद्घाटन राष्ट्रीय जांच एजेंसी में महानिरीक्षक श्री आलोक मित्तल तथा कुलपति डॉ दिनेश कुमार ने किया तथा स्वैच्छिक रक्तदान किया। कार्यक्रम में पुलिस उपायुक्त ( मुख्यालय) श्री विरेन्द्र विज विशिष्ट अतिथि रहे। रोटरी क्लब, फरीदाबाद ईस्ट के अध्यक्ष श्री गुलशन नारंग ने भी रक्तदान कर विद्यार्थियों का हौसला बढ़ाया तथा रक्तदान के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय में पौधारोपण गतिविधि भी चलाई गई, जिसमें सभी ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने मुख्य अतिथियों को स्मृति चिन्ह भी भेंट किये।
कार्यक्रम में कुल सचिव डॉ संजय कुमार शर्मा तथा संकायाध्यक्ष विद्यार्थी कल्याण प्रो एस के अग्रवाल भी उपस्थित थे। कार्यक्रम का समन्वयन निदेशक युवा मामले डॉ प्रदीप डिमरी व सांस्कृतिक मामलों की अध्यक्ष डॉ सोनिया बंसल ने किया।  सड़क सुरक्षा परिचर्चा में विद्यार्थियों को सड़क दुर्घटना से बचाव तथा यातायात नियमांे के पालन को लेकर जरूरी संदेश दिया गया तथा स़ड़क दुर्घटना के शिकार लोगों के जीवन को बचाने के लिए खून के महत्व पर भी चर्चा की गई तथा स्वैच्छिक रक्तदान के लिए प्रेरित किया गया।

विश्वविद्यालय में कार्यक्रम के आयोजित में सहयोग के लिए रोटरी क्लब, फरीदाबाद ईस्ट तथा मार्गदर्शन संस्था का आभार जताते हुए कुलपति ने कहा कि सड़क सुरक्षा तथा रक्तदान दोनों ही विषय युवाओं की दृष्टि से महत्वपूर्ण है। प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि युवाओं को बढ़-चढ़कर स्वैच्छिक रक्तदान के लिए आगे आना चाहिए और यातायात नियमों का पालन करना चाहिए।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय जांच एजेंसी में महानिरीक्षक श्री आलोक मित्तल ने अपने संबोधन में सड़क सुरक्षा को अध्ययन और अनुसंधान का विषय बताया तथा विद्यार्थियों को इस दिशा में कार्य करने के लिए प्रेरित किया। वर्ष 2015 के सड़क दुर्घटनाओं के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि देश मंे प्रतिदिन 400 लोग सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जान गंवा देते है और इसमें 35 प्रतिशत हादसे राष्ट्रीय राजमार्ग पर होते है, जिनमें 50 मामलों में तेज रफ्तार और शराब पीकर गाड़ी चलाने के मामले होते है। उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि सड़क सुरक्षा को लेकर गंभीर कदम उठाये जाये। मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक, 2016 को सड़क सुरक्षा की दृष्टि से अच्छी पहल बताते हुए श्री मित्तल ने कहा कि ओवर स्पीड़ और शराब पीकर गाड़ी चलाने के कारण होने वाले हादसों को हत्या की श्रेणी में रखा जाना चाहिए और ऐसे मामलों में कड़ी सजा मिलनी चाहिए। 

विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को दुर्घटना के मामलों पर अनुसंधान करने के लिए प्रेरित करते हुए उन्होंने कहा कि एक अध्ययन के मुताबिक केवल सीट बेल्ट पहनने से दुर्घटना होने पर जोखिम को 60-70 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। इस तरह के अध्ययन को व्यापक स्तर पर करने की आवश्यकता है ताकि दुर्घटना की संभावनाओं और सुरक्षा को सुनिश्चित बनाया जा सके। उन्होंने विद्यार्थियों से दुर्घटना मामलों की रिपोर्टिंग में पुलिस के लिए सहयोग के लिए एप बनाने का भी आह्वान किया ताकि ऐसे मामलों का बेहतर ढंग से विश्लेषण कर दुर्घटनाओं को टाला जा सके। उन्होंने सड़क सुरक्षा में सड़क इंजीनियरिंग की गुणवत्ता में सुधार, यातायात नियमों को सुनिश्चित बनाने, सड़क सुरक्षा को शिक्षा का हिस्सा बनाने तथा सड़क दुर्घटना से बचाव के लिए आपातकालीन सेवाओं को दुरूस्त बनाने की जरूरत पर बल दिया। 

फरीदाबाद के पुलिस उपायुक्त ( मुख्यालय) श्री विरेन्द्र विज ने अपने संबोधन में सड़क सुरक्षा जागरूकता को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि फरीदाबाद में इस वर्ष अब तक 110 लोग सड़क हादसों में अपनी जान गंवा चुके है, जोकि किसी अन्य कारण से होने असामान्य मौतों की तुलना में सर्वाधिक है। उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं का मुख्य कारण यातायात नियमों की अनदेखी एवं लापरवाही होता है, जिसके दृष्टिगत पुलिस द्वारा सख्त कदम उठाये गये है। यातायात नियमों को तोड़ने वालों पर कड़ा संज्ञान देते हुए पुलिस ने अब तक 500 से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस रद किये है, जिसमें ओवरलोडिंग, शराब पीकर वाहन चलाना तथा वाहन चलाते समय मोबाइल फोन का प्रयोग प्रमुख कारण रहे है।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए रोटरी क्लब के सुभाष कुमार ने बताया कि रोटरी क्लब द्वारा थैलीसीमिया पीड़ितों को निःशुल्क खून उपलब्ध करवाया जायेगा। रोटरी क्लब द्वारा फरीदबाद में एक ब्लड़ बैंक भी खोला जा रहा है। उन्होंने बताया कि पूरे एनसीआर क्षेत्र में लगभग 150 थैलीसीमिया पीड़ितों को इस सुविधा का लाभ होगा। केएल मेहता दयानंद महिला कालेज, फरीदाबाद में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ रेखा गोयल ने सड़क सुरक्षा पर विस्तृत प्रस्तुतीकरण भी दिया।कार्यक्रम के दौरान विद्यार्थियों को यातायात नियमों के पालन को लेकर शपथ भी दिलवाई गई, जिसमें विद्यार्थियों द्वारा हैलमैट व सीट बेल्ट का प्रयोग करने, ओवर स्पीड़ वाहन न चलाने, वाहन चलाते समय मोबाइल फोन का प्रयोग न करने, यातायात नियमों का पालन करने तथा सड़क दुर्घटना के शिकार लोगों की हरसंभव मदद करने की शपथ ली।इस अवसर पर रोटरी क्लब के पधाधिकारियों में श्री मोहित, श्री तरूण गुप्ता, श्री के सी लखानी, श्री एच आर भूटानी, श्री टी आर अरोड़ा, डॉ आर एस वर्मा, श्री परमजीत, श्री सुशील कपूर, श्री रविन्दर के अलावा श्रीमती निधि मित्तल, डॉ अनीशा तथा श्री दिनेश रघुवंशी भी उपस्थित थे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: