Thursday, August 18, 2016

ऐतिहासिक भव्य पंखा मेले का पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने किया शुभारम्भ

मनोहारी झांकियों  एवं प्रसिद्ध बैंडों की प्रस्तुति से मेले में देवलोक साकार हो उठा


फरीदाबाद-18अगस्त,2016(दुष्यंत त्यागी--abtaknews.com )पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि प्राचीन रक्षाबंधन पंखा मेला फरीदाबाद ही नहीं अपितु हरियाणा में ख्याति प्राप्त मेला है और यह एक मेला नहीं बल्कि एक परम्परा का रूप ले चुका है, जो हमारी भावी व आने वाली पीढ़ी को हमारे पूर्वजों द्वारा किए गए नेक कार्याे का ज्ञान हासिल करवा रहा है। इस मेले को हर बार आधुनिक व आकर्षण बनाने के लिए हरियाणा ही नहीं बल्कि देश के विभिन्न जगहों से प्रसिद्ध लोक कलाकार अपनी कला का प्रदर्शन करते है, जिसमें हमें हमारी भारतीय संस्कृति के साक्षात् दर्शन होते है। श्री हुड्डा आज ओल्ड फरीदाबाद स्थित पथवारी मंदिर में तीन दिवसीय रक्षाबंधन पंखा मेले का उद्घाटन करने के उपरांत उमड़े जनसमूह को संबोधित कर रहे थे।
रक्षाबंधन पंखा मेले के उद्घाटन समारोह में उमड़े जनसमूह को संबोधित करते हुए भूपेंंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि मेलों में भारतीय संस्कृति बसती है क्योंकि मेले के माध्यम से जहां हमें हमारी भाषा, सभ्यता, वेशभूषा, रहन-सहन एवं खान-पान का ज्ञान मिलता है वहीं सामाजिक व एवं धार्मिक आस्थाओं के बारे में भी जानकारी मिलती है। उन्होंने कहा कि जहां आस्था और विश्वास होता है, वहीं परमात्मा का वास होता है और पंखा मेला शुरू होने के पीछे भी हमारे पूर्वजों की एक आस्था और एक विश्वास था, जिसे हम और हमारी आने वाले पीढ़ी निरंतर एक परंपरा की तरह निभाती रहेगी। श्री हुड्डा ने रक्षाबंधन मेला के सफल आयोजन पर लखन सिंगला, चेयरमैन शिवशंकर भारद्वाज, अध्यक्ष नितिन सिंगला एवं पंखा मेला समिति के समस्त पदाधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि इस बार जिस तरह से मेला कमेटी ने मेले को आकर्षक एवं आधुनिक बनाकर एक बेहतर कार्य किया है, जिसके लिए वह बधाई के पात्र है। इस अवसर पर उपस्थित वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं ने अपने-अपने संबोधन में रक्षाबंधन पंखा मेला कमेटी की प्रशंसा करते हुए कहा कि वह इस परंपरा को एक नया रूप देकर हमारी युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति का ज्ञान हासिल करवा रहे है और हम सभी को ऐसे सामाजिक व धार्मिक कार्याे में अपना बढ़चढक़र सहयोग देना चाहिए क्योंकि ऐसे आयोजनों से जहां समाज में शांति का संदेश जाता है वहीं आपसी भाईचारे को भी बल मिलता है। समारोह में रक्षाबंधन पंखा मेला कमेटी के चेयरमैन एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला ने उपस्थित आगुंतकों का आभार जताते हुए कहा कि आज के आधुनिक युग में भी हम प्राचीन सभ्यता को बरकरार रखे हुए है, यह समाज के लिए हर्ष का विषय है।
रक्षाबंधन पंखा मेला शुरू, निकली भव्य शोभायात्रा,तीन दिन तक चलेगा।  मेले में शामिल वृंदावन, मथुरा की मनोहारी झांकियों ने कराया साक्षात देवलोक का अहसास। धार्मिक धुन बजाते प्रसिद्ध बैंड पार्टियों ने मेले में समां बांध दिया। मेले की सुरक्षा व्यवस्था की कमान भारी पुलिसबल एवं स्वयं सेवकों की फौज ने संभाली हुई थी। मेला आयोजक चेयरमैन वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला ने मुख्यअतिथि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के आगमन पर आतिशबाजी द्वारा जबरदस्त स्वागत किया एवं विशिष्ठ अतिथियों का स्वागत कर उन्हें स्मृति चिंह भेंट कर सम्मानित किया गया।

पंखा मेला आयोजन समारोह के चेयरमैन एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला, मेला कमेटी के प्रधान नितिन सिंगला ने जानकारी देते हुए बताया कि इस बार पंखा मेला भव्यतम एवं सर्वश्रेष्ठ हैं जिसकी सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम किये गए हैं। मेले में किसी तरह की कोई गडबडी न हो इसके लिए अलग अलग कमेटियां बनाई गई हैं। भारी पुलिस बल के साथ साथ कमेटी के 500 स्वयं सेवक मेले की व्यवस्था में तैनात हैं. मेले की सुरक्षा को लेकर शहर के प्रमुख चौराहों पर 35 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

पंखा मेले का उद्घाटन पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, समारोह की अध्यक्षता विधायक ललित नागर ने की। इस अवसर पर विशिष्ठ अतिथियों में पूर्व विधानसभा स्पीकर कुलदीप शर्मा, पूर्व मंत्री महेंद्र प्रताप सिंह, पूर्व मंत्री एवं विधायक करण दलाल,विधायक उदयभान, पूर्व मंत्री शिवचरण लाल शर्मा,पूर्व मंत्री आफताब अहमद,  दिनेश भारद्वाज, जेपी नागर,गुलशन बगगा, उमेश पंडित, अब्दुल गफ्फार कुरैशी पूर्व चेयरमैन,केसर डागर,पूर्व वरिष्ठ उपमहापौर मुकेश शर्मा, पूर्व डिप्टी मेयर राजेंद्र भामला, पूर्व पार्षद योगेश धींगड़ा, राजेश खटाना एडवोकेट  विशिष्ट अतिथि के रूप में मंचासीन थे। श्री हुड्डा का स्वागत सर्व प्रथम कमेटी की युवा विंग ने प्रधान नितिन सिंगला के नेतृत्व में 1 हजार युवा कार्यकर्ता के साथ किया। इस स्वागत टीम में जवाहर ठाकुर, एवं अन्य समाज के प्रतिनिधि मौजूद थे।

पंखा मेले की मान्यता- मेला प्रंबधन कमेटी प्रधान नितिन सिंगला ने बताया कि शहर को प्राकृतिक आपदा से बचाने, शहर एवं शहरवासियों की सुख-शांति, वैभव एवं आपसी भाईचारा सौहार्द बना रहे इसी मनोकामना के साथ बरसों पहले 36 बिरादरी के सहयोग एवं समर्थन से प्राचीन पथवारी माता मंदिर पर पंखा चढ़ाए जाने की प्रकिया को ही पंखा मेला कहा जाता है। जब से मेला आयोजित हो रहा है तब से शहर पर कोई प्राकृतिक आपदा नही आई हैं। इसी विश्वास एवं मनोकामना के वशीभूत होकर शहरवासी विगत 70 सालों से भी ज्यादा समय से प्रतिवर्ष रक्षा बंधन के दिन पंखा मेले का आयोजन मिल जुलकर करते हैं। मेले का आयोजन प्राचीन पथवारी मंदिर रक्षा बंधन पंखा मेला कमेटी द्वारा किया जाता है।
तीन दिन चलता है पंखा मेला-- प्राचीन पंखा मेला रक्षा बंधन के दिन शुरू होकर तीन चरणों में होता है। प्रधान नितिन सिंगला ने बताया कि सर्वप्रथम ओल्ड फरीदाबाद शहर के मुख्य बाजार स्थित प्राचीन माता पथवारी मंदिर में पूजा अर्चना के उपरांत विशालकाय पंखे के साथ भव्य शोभायात्रा शुरू हुई जो शहर के मुख्य बाजार से परिक्रमा करते हुए शहर में स्थित चार पीर, मंदिर-मसजिद एवं गुरूद्वारों के सामने से धार्मिक धुन बजाते बैंड पार्टियों के साथ परिक्रमा करते हुए वापिस देर रात्रि पथवारी मंदिर में पहुंचती है। वहां पर रात्रि में पूरी विधि विधान से पूजा अर्चना के बाद पंखे को मां पथवारी की मूर्ति के साथ स्थापित कर दिया जाता है। उसके उपरांत ईनाम वितरण समारोह पुरानी अनाज मंडी में होगा जिसमें सर्वश्रेष्ठ झांकी, सुंदर प्रस्तुति देने वाले बैंड वालों और सर्वश्रेष्ठ स्वयं सेवक के उत्साह वर्धन के लिए उन्हें सम्मानित किया जाता है। इसके उपरांत स्वांग का आयोजन जिसमें भारतीय लोक संस्कृति की झलक से दर्शक रूबरू होतेे हैं। इसके बाद विशाल दंगल के आयोजन के साथ पंखा मेला संपन्न होगा।
पंखा मेला आयोजन मेें सभी के प्रेरक एवं मेला आयोजक चेयरमैन वरिष्ठ कांग्रेसी नेता लखन कुमार सिंगला, मेला प्रबंधन कमेटी के चेयरमैन शिवशंकर भारद्वाज, प्रधान नितिन सिंगला, महासचिव जवाहर ठाकुर और कोषाध्यक्ष बालकिशन गोयल,सुरेंद्र अग्रवाल,पवन पाराशर, पवन गर्ग, गिर्राज सैनी, कपिल जैन, मुकेश गर्ग, विनित गर्ग,संजू शर्मा,संदीप वर्मा, सुधीर चौधरी,ओमबीर सिंह, पवन सैनी,ज्ञानेंद्र भारद्वाज, कपूर चंद अग्रवाल, सुधीर चौधरी,तरूण ङ्क्षसगला,, गुरप्रीत लहरी, रेणु चौहान, हरवीर चपराना संदीप वर्मा, दिनेश जिंदल, रमेश कपड़े वाले, दिनेश जिंदल, सोनू जिंदल, रिंकू मिगलानी, अभिलाष सिंगला, सचिन सिंगला, रणबीर नागर,विजयकुमार,कर्मबीर खटाना, नेमचंद गर्ग, रोहित गोयल, रहीसुददीन कुरैशी का विशेष योगदान रहा हैं।





---------- ~~~~~~~~~~~~~~~~~~


loading...
SHARE THIS

0 comments: