Wednesday, August 31, 2016

हरियाणा पर्यटन दिवस समारोह चलेगा 1 से 4 सितंबर तक



चंडीगढ़, 31 अगस्त,2016(abtaknews.com ) हरियाणा पर्यटन ने कल अपनी स्थापना के 43 वर्ष मनाने का निर्णय लिया है और इसके लिए हरियाणा पर्यटन दिवस के अवसर पर पहली से चार सितंबर, 2016 तक हरियाणा पर्यटन के पर्यटक परिसरों में आने वाले अतिथियों को आवास के साथ-साथ भोजन पर 10 प्रतिशत की छूट दी जाएगी। हरियाणा पर्यटन के प्रबंध निदेशक श्री समीर पाल सरो ने बताया कि सभी पर्यटक परिसरों पर स्वागत बैनर लगाए जाएंगे तथा विशेष सजावट भी की जाएगी। पहली सितंबर को प्रदेशभर के विभिन्न पर्यटक अवसरों पर स्कूली विद्यार्थियों के लिए नृत्य, पेंटिग, फेस पेंटिग, रंगोली जैसी रोचक प्रतियोगिताएं तथा वृक्षारोपण जैसे विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि बच्चों में मिठाईयां, गुब्बारे तथा बिस्कुट जैसे छोटे उपहार बांटे जाएंगे।
उन्होंने बताया कि हरियाणा पर्यटन दिवस समारोह के दौरान पिजौंर उद्यान, सनबर्ड मोटल, सूरजकुंड तथा एथेनिक इंडिया राई, सोनीपत पर्यटक परिसरों पर पहली से 4 सितंबर, 2016 तक आयोजित किए जा रहे फूड फेस्टिवल आकर्षण का केंद्र होंगे।
उन्होंने बताया कि चार दिवसीय फूड फेस्टिवल के दौरान दक्षिण भारतीय, चाइनीज, राजस्थानी, मुगलई, हैदाराबादी और अवधी व्यजंन परोसे जाएंगे। इस दौरान पर्यटक पिजौंर उद्यान में स्थापित किए जा रहे क्राफ्ट बाजार में हथकघा और हस्तशिल्प की खरीददारी का भी आनंद ले सकेंगे।
उन्होंने बताया कि हरियाणा टूरिज्म हाइवे टूरिज्म के मामले में अग्रणी है। इसके पास 838 आरामदायक वातानुकूलित कमरों, बहुव्यंजन रेस्त्राओं, पर्याप्त स्टॉक वाले बार, आधुनिक सुविधाओं से युक्त कनवेन्शन सेंटर्स और बैंैक्वेट, कान्फ्रेंस तथा बहुउद्देशीय हॉल जैसी सुविधाओं वाले 43 पर्यटक परिसर हंै। देश में हाइवे टूरिज्म में अग्रणी होने के नाते हरियाणा पर्यटन ने फार्म टूरिज्म, गोल्फ टूरिज्म, हेरिटेज टूरिज्म तथा एडवेंचर टूरिज्म पर ध्यान केन्द्रित करके पर्यटन की परिकल्पना का विविधिकरण और विस्तार किया है। यह राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय पर्यटन बाजार में अपनी जगह बनाने के लिए निरंतर प्रयासरत है। इस उद्देश्य से, और अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए इसके द्वारा कमरों की ऑनलाइन बुकिंग के लिए मोबाइल एप्लीकेशन पर्यटक परिसरों में सुविधाओं के उन्नयन तथा सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) पद्धति के तहत विकास परियोजनाओं जैसी नई पहल की गई हैं।
उन्होंने बताया कि हरियाणा पर्यटन प्रदेश में एमआईसीई (मीटिंग, इन्सेंटिव, कन्वेंशन और एग्जीबिशन) पर भी बल दे रहा है। इस समय प्रदेशभर के इसके विभिन्न पर्यटक परिसरों पर चार कन्वेंशन सेंटर, चार पोर्टा केबिन और 52 कॉन्फ्रेंस हॉल या बहु-उद्देशीय हॉल या बैंैक्वेट हॉल हैं। जिला झज्जर के बहादुरगढ़ में गोरैया पर्यटक परिसर, यमुनानगर में ग्रे पेलिकन पर्यटक परिसर और पेराकीट पर्यटक परिसर, पीपली में 400-500 व्यक्तियों की क्षमता वाले सभी सुविधाओं से युक्त तीन और बहु-उद्देशीय हॉल शीघ्र बनने वाले हैं। यमुनानगर के जगाधरी में एक वातानुुकूलित कन्वेंशन सेंटर पूरा होने वाला है। इसकी क्षमता 800 व्यक्तियों की होगी और इसमें ग्रीन रूम, लॉबी, किचन, कॉन्फ्रेंस हॉल, किट्टी पार्टी रूम और सुइट के साथ स्टेज जैसी सुविधाएं होंगी।
उन्होंने बताया कि हरियाणा पर्यटन विरासत, कला एवं शिल्प तथा लोकपरम्पराओं के प्रोत्साहन हेतु विभिन्न मेलों और उत्सवों के आयोजन में भी अग्रणी है और प्रतिवर्ष 1 से 15 फरवरी के बीच फरीदाबाद में सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का आयोजन करता है। इस वर्ष इस मेले में 23 देशों ने भाग लिया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: