Monday, July 25, 2016

संत केवल कपड़ो से नहीं आचरण से होते है ; - स्वामी सत्यमित्रानन्द



फरीदाबाद -25 जुलाई,2016(abtaknews.com ) भारत माता मंदिर ,हरिद्धार के संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानन्दजी महाराज , सावन के महीने के पहले सोमवार को फरीदाबाद के समन्वय मंदिर आये  ,फरीदाबाद के सेक्टर १५ स्थित एक भक्त के यहाँ पहुँच कर उन्होंने शिव की महिमा और शिवलिंग पर जल चढाने के महत्व के बारे में भक्तजनो को जानकारी दी ,हरियाणा के कैबिनेट  मंत्री विपुल गोयल ने भी  स्वामी सत्यमित्रानन्दजी महाराज का आशीर्वाद लिया।
फरीदाबाद समन्वय मंदिर ट्रस्ट के आग्रह पर ज्योतिर्मठ उपपीठ में जगतगुरु शंकराचार्य की उपाधि को स्वेच्छा से त्यागने वाले भारत माता मंदिर के संस्थापक स्वामी सत्यमित्रानन्दजी महाराज , सावन के महीने के पहले सोमवार को फरीदाबाद के समन्वय मंदिर आये ,समन्वय मंदिर ट्रस्ट  के ट्रस्टीओ सहित फरीदाबाद के सेकड़ो गणमान्य लोगो ने स्वामीजी  का फरीदाबाद के सेक्टर १५ स्थित एक भक्त के यहाँ पहुँचने पर चरणवंदना की ,स्वामी सत्यमित्रानन्दजी महाराज ने  शिव की महिमा और शिवलिंग पर जल चढाने के महत्व के बारे में भक्तजनो को जानकारी दी  माना जाता है की जो जातक सावन के महीने में आने वाले पहले सोमवार को शिव की आराधना कर जल चढ़ाता है उसकी तमाम मनोकामनाएं पूरी होती है , इस मौके पर हरियाणा के नवनियुक्त कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल ने भी वहाँ पहुँच कर स्वामी सत्यमित्रानन्दजी महाराज से आशीर्वाद लिया ,इस अवसर पर स्वामी जी कहा सावन का पहला सोमवार पर  अच्छे लोगो का मिलना पुण्य का अवसर होता है साधू  के लिए भी और गृहस्थ  के लिए भी और संत कवेल कपड़ो से नहीं आचरण से होते है



loading...
SHARE THIS

0 comments: