Friday, July 29, 2016

तीन बच्चों को बचाकर खुद बडखल झील में समा गया साजिद


फरीदाबाद-जुलाई 29,2016(दुष्यंत त्यागी-abtaknews.com ) फरीदाबाद पर्यटन की पहचान बडख़ल झील  पिछले कई सालों से अपना अस्तित्व खो चुकी है क्योंकि झील से पानी खत्म हो चचुका है जिसको लेकर राजनेता और प्रशासन भी लम्बी जदोहजद के बाद प्रयासरत है, लेकिन पिछले दो दिनों से हुई लगातार बारिश से झील मे अलग अलग हिस्सो में कुछ पानी जमा हो गया, जिसने एक बच्चे को भी निगल लिया है। दरअसल मामला बडख़ल गाँव का है जहां के कुछ बच्चे झील में जमा हुए पानी में नहाने के लिए नीचे उतरे तो उसमें तीन बच्चे डूबने लगे बच्चों की चीख पुकार सुनकर 16 साल का साजिद उन्हें बचाने के लिए झील में कूद गया और तुरन्त उसने दो बच्चों को झील से बहार निकल दिया और तीसरे बच्चे को बचाते हुए उसे किनारे पर फेंक कर खुद झील में समां गया जैसे परिजनों और स्थानीय लोगो को सूचना मिली वह भी झील में साजिद की तलाश में कूद गए करीब आधा घंटे की मशक्कत के बाद साजिद को बहार निकाला तो तब तक देर हो चुकी थी साजिद तीन जिंदगी बचा कर इस दुनिया को अलविदा कर चुका साजिद की मौत के बाद समूचे इलाके में मातम छा गया है।
16 वर्षीय साजिद की मौत पर रोते-बिलखते उसकी माँ का रो रोकर बुरा हाल है.  बेटे की झील में डूबने से हुई मौत को याद कर बिलखती एक माँ अपने लाल को पुकार रही है।  मौत की वजह से समूचे गाँव बड़खल और परिवार में मातम पसरा हुआ है.फरीदाबाद के बडख़ल गाँव  जिससे सटी हुयी ऐतिहासिक बडख़ल झील है जो हरियाणा पर्यटन विभाग के अंतर्गत आती है. बडख़ल झील फरीदाबाद की कभी दुनिया के मानचित्र में पर्यटन स्थल के रूप में पहचान थी, लेकिन पिछले दो दशक से झील का पानी सूख जाने से अपना अस्तित्व खो चुकी थी. झील सूखकर एक खाली मैदान में तब्दील हो गई थी इसके जीर्णोद्धार के लिए सरकार ने भी करोडो रुपए का प्रोजेक्ट बनाया है ताकि उसमे पानी आये और इसकी वही पहचान दुबारा लौट सके.
पिछले दिनों शहर में निरंतर हो रही बारिश से इस झील में अलग अलग बने गड्डो में बारिश का पानी जमा हो गया झील पानी जमा होते ही बडख़ल गाँव के बच्चे उस में नहाने के लिए उत्तर गए लेकिन जैसे ही तीन बच्चे आमिल, बबलु और तीसरा बच्चा झील में डूबने लगे तो वहाँ मौजूद 16 वर्षीय साजिद जो की नोवी क्लास का छात्र था उसने झील में छलांग लगा दी तुरंत उसने दो बच्चों को बचा लिया और तीसरे को बहार निकालते हुए वह थक गया था फिर भी उसने डूबते हुए तीसरे बच्चे को बहार धकेल दिया और खुद झील के आगोश में समां गया तीन जिंदगी बचाते हुए वह इस दुनिया को अलविदा कह गया बच्चो के डूबने की खबर गाँव में जंगल की आग की तरह फैल गई और लोग मौके पर पहुँच गए जब पता चला की साजिद कहा है उसकी तलाश की तो घंटो मशक्कत के बाद उसे निकाला गया तो तब तक उसकी मौत हो चुकी थी. साजिद की मौत ने परिवार पर दुखो का पहाड़ तोड़ दिया है।
अनखीर पुलिस चौकी इंचार्ज विनोद कुमार ने बताया कि  उन्हें सूचना मिलते ही  वह अपने पुलिस टीम के साथ दमकल विभाग के कर्मचारियो के साथ मौके पर बड़खल झील पहुंच गए. काफी तलास के बाद साजिद के शव को पानी से बाहर निकाला गया  लेकिन तब तक साजिद की मौत हो चुकी थी.

loading...
SHARE THIS

0 comments: