Thursday, July 21, 2016

बेटों की करतूतों का बचाव करते पूर्व मंत्री महेन्द्र प्रताप के उतरे चेहरे के उलझे सवाल




 
फरीदाबाद (दुष्यंत त्यागी abtaknews.com) बेटों की करतूतों का बचाव करते पूर्व मंत्री महेन्द्र प्रताप के उतरे चेहरे के उलझे सवाल मीडिया की समझ से पर ही रहे।  होटल मैगपाई में आयोजित प्रेस वार्ता में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व केबीनेट मंत्री महेन्द्र प्रताप सिंह ने फरीदाबाद के सांसद और केन्द्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर पर राजनैतिक द्धेष के कारण उनके पुत्रों के खिलाफ धोखाधड़ी का झूठा मामला दर्ज करने का आरोप लगाया है। उन्होने मुख्यमंत्री से इस मामलें में संज्ञान लेने और उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि इस तरह के कारनामों से पार्टी और सरकार दोनो की छवि जनता की नजर में खराब हो रही है। महेन्द्र प्रताप सिंह के पुत्रों विजय और विवेक प्रताप के खिलाफ संदीप चपराना नामक युवक ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है। महेन्द्र प्रताप सिंह मिडिया को स्च्चाई बताने के लिए पत्रकार वार्ता में बोल रहे थे। 
पूर्व मंत्री महेन्द्र प्रताप सिंह के पुत्रों के खिलाफ दर्ज धोखाधड़ी के मामलें ने अब राजनैतिक रूप ले लिया है। इसे लेकर महेन्द्र प्रताप सिंह और फरीदाबाद के सांसद व केन्द्रीय राज्य मंत्री आमने सामने है। धोखधड़ी के मामलें में सफाई देते हुए पूर्व मंत्री महेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि यह मामला झूठा और निराधार है। इसे दर्ज कराने के लिए मंत्री कृष्णपाल गुर्जर काफी समय से लगा हुआ था। लेकिन यह दर्ज नहीं हुआ था। उन्हे स्वयं प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया है कि उन्होने मंत्री कृष्णपाल गुर्जर के दबाव में मामला दर्ज किया है। कृष्णपाल गुर्जर चाहता है कि अभी से उनकी छवि खराब कर दी जाए, ताकि वे उसके सामने चुनाव न लड़ सकें। उन्होने मुख्यमंत्री से इस मामलें में संज्ञान लेकर उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग करते हुए कहा कि इससे पार्टी और सरकार की छवि खराब हो रही है।
धोखाधड़ी मामलें पर सफाई देते हुए पूर्व मंत्री महेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि त्यागी नामक व्यक्ति ने संदीप चपराना और उसके साथियों के साथ जमीन का सौदा किया था। जिसके लिए एमओयू साइन किया गया था। जिसकी शर्त पूरी न होने पर त्यागी ने इस जमीन का एग्रीमेंट दूसरे व्यक्ति के नाम कर दिया। लेकिन इसके बावजूद उन्होने सामाजिक जिम्मेदारी निभाते हुए इस मामलें को निपटाने का प्रयास किया और त्यागी मान भी गया कि अगर वे उसकी पूरी कीमत देते है तो वह जमीन की पूरी रजिस्ट्री करने को तैयार है। लेकिन मंत्री कृष्णाल गुर्जर ने ऐसा नहीं होने दिया और मामला दर्ज कराने वालों ने उस जमीन पर कब्जा कर लिया और पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी। जबकि इस पूरे मामलें में उनके पुत्रों विजय और विवेक प्रताप का कोई लेना देना नहीं है। पूर्व मंत्री महेन्द्र प्रताप सिंह ने मामले से जुडे काफी दस्तावेज भी प्रेस के सम्मुख रखे ताकि सच्चाई सामने आ सकें।
क्या कहते है संदीप चपराना एडवोकेट -- मंत्री पुत्रों के खिलाफ मेरे पास पुख्ता सबूत है।  मैं ही पीड़ित नहीं मेरे जैसे सैंकड़ो लोग मंत्री पुत्रों से पीड़ित है जल्द मीडिया को पूरे सबूतों के साथ जानकारी दूंगा थोड़े और सबूत जुटा रहा हूँ.
क्या कहते है केंद्रीय राज्य मंत्री कृषणपाल गुर्जर-- कानून अपना काम करता है जो गलत है वो गलत है. मैं और मेरा परिवार ओच्छी हरकत नहीं करता। हम सभी का सम्मान और सामाजिक मन मर्यादायों को मानते है हमें जिसके साथ बैठते है पूरी ईमानदारी के साथ बैठते है धोखा नहीं देते। 
विधायक पुत्र कर रहे मीडिया मैनेजमेंट- मंत्री पुत्रों पर दर्ज मुकदमे के बाद मंत्री के खास उनके पूर्व मित्र पूर्व विधायक के पुत्र मीडिया मैनेज करने में पूरी भूमिका निभा रहे है 


loading...
SHARE THIS

0 comments: