Sunday, July 31, 2016

हरियाणा में एलईडी लाइटों का इस्तेमाल अनिवार्य;- सीएम खट्टर




चण्डीगढ़, 31 जुलाई,2016(abtaknews.com )हरियाणा सरकार ने प्रदेश में केन्द्र तथा राज्य सरकार के कार्यालयों, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, संस्थानों, प्रतिष्ठïानों तथा 30 किलोवाट या इससे अधिक कनेक्टिड लोड वाले औद्योगिक, वाणिज्यिक तथा संस्थागत क्षेत्रों के बिजली उपभोक्ताओं के लिए एलईडी लैम्पों का प्रयोग अनिवार्य कर दिया है।अक्षय ऊर्जा विभाग के प्रवक्त्ता ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि यदि टी-5 लाइटों या सीएफएल के स्थान पर एलईडी लाइटिंग सिस्टम का उपयोग किया जाता है तो इससे 25 से 60 प्रतिशत ऊर्जा बचत की संभावना है। इसके अलावा, एलईडी लैम्प की मियाद अधिक होती है। उन्होंने बताया कि फ्लोरोसेंट लाइटों में पारे का इस्तेमाल होता है जोकि पर्यावरण के लिए खतरा हो सकता है जबकि एलईडी लैम्प नॉन- टॉक्सिक होते हैं, इसलिए ये एक बेहतरीन विकल्प हैं। 
उन्होंने बताया कि केन्द्र, राज्य सरकार के कार्यालयों तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में सभी खराब परम्परागत बल्बों, परम्परागत टयूब लाइटों, सीएफएल तथा टी-5 टयूब  लाइटों को जब भी बदला जाएगा तो उनके स्थान पर केवल एलईडी लैम्प, टयूब लाइटें या ऊर्जा दक्ष लाइटिंग सिस्टम ही लगाया जाएगा। हालांकि, 30 किलोवाट या इससे अधिक कनेक्टिड लोड वाले औद्योगिक, वाणिज्यिक तथा संस्थागत क्षेत्रों के बिजली उपभोक्ताओं को अपने प्रतिष्ठïानों में स्वयं की लागत पर, अधिसूचना की तिथि से एक वर्ष के अन्दर, सभी परम्परागत बल्बों, परम्परागत ट्यूब लाइटों, सीएफएल तथा टी-5 ट्यूब लाइटों के स्थान पर केवल एलईडी लैम्प, ट्यूब लाइटें तथा ऊर्जा दक्ष लाइटिंग सिस्टम लगाना होगा। 
उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने सरकारी क्षेत्र, सरकारी सहायता प्राप्त क्षेत्र, बोर्डों तथा हरियाणा के निगमों व स्वायत्त निकायों द्वारा सोडियम वैपर लैम्पों से कम दक्षता वाली  लाइटों तथा नए सोडियम वैपर लैम्पों की खरीद पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। उन्होंने बताया कि हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के सैक्टरों, पालिका क्षेत्रों, एचएसआईआईडीसी या उद्योग विभाग द्वारा विकसित क्षेत्रों में मौजूदा तथा नई स्ट्रीट लाइटों, जहां  25 से अधिक लाइटों के लिए कॉमन स्विच लगाने की आवश्यकता है, पर सायं से सुबह तक सौर आधारित या टाइमर बेस्ड ऑटोमैटिक स्विचिंग सिस्टम लगाना अनिवार्य होगा। उन्होंने बताया कि एलईडी लाइटों के इस्तेमाल को अनिवार्य किए जाने से हरियाणा लगभग 380 मैगावाट की अतिरिक्त बिजली बचाने में सक्षम होगा। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: