Thursday, July 14, 2016

एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने छात्र हितों के लिए एम डी यूनिवर्सिटी के खिलाफ चलाया था आंदोलन



फरीदाबाद। एमडीयू द्वारा जारी किए गए नए तुगलकी नियमों के खिलाफ कांग्रेस के छात्र संगठन एनएसयूआई के सैंकड़ों कार्यकर्ताओं ने आज विरोध स्वरूप जिलाध्यक्ष कृष्ण अत्री के नेतृत्व में बीके चौक पर जाम लगा दिया और हरियाणा सरकार व शिक्षा मंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष कृष्ण अत्री ने कहा कि हरियाणा की भाजपा सरकार छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। उन्होंने कहा कि महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी द्वारा हाल ही में एक नियम जारी किया गया है जिसके तहत 5वें सेमेस्टर में दाखिला लेने के लिए छात्र-छात्राओं को पहले सेमेस्टर के सभी विषयों में पास होना अनिवार्य कर दिया है जिसका छात्र विरोध कर रहे हैं। एनएसयूआई टीम इस नियम को वापिस कराने के लिए पिछले करीब एक महीने से प्रयास कर रही है। कृष्ण अत्री ने बताया कि वह नेहरू कॉलेज प्रिंसिपल, डीएवी कॉलेज प्रिंसिपल, जिला उपायुक्त, मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा को इस संदर्भ में ज्ञापन सौंप चुके हैं लेकिन करीब एक महीने से प्रयास करने के बावजूद भी उन्हें अभी तक कहीं से किसी भी प्रकार का कोई आश्वासन तक नहीं मिला है। इतना ही नहीं जिला प्रशासन और कॉलेज प्रशासन को नींद से जगाने के लिए डीएवी कॉलेज पर ताला भी जड़ा जा चुका है लेकिन फिर भी कॉलेज प्रबंधन और जिला प्रशासन गहरी निंद्रा में है।
शुक्रवार को बीके चौक पर एनएसयूआई के सैंकड़ो कार्यकर्ताओं ने करीब तीन घंटे प्रदर्शन किया जिसके कारण बीके चौक से एक-दो चौक तक और बीके चौक से नीलम पुल तक जाम लग गया। गर्मी के मौसम में जाम लगने के कारण दुपहिया वाहन चालकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। उधर जाम की सूचना मिलते ही भारी पुलिस बल मौके पर पहुंच गया और जाम को खुलवाने का प्रयास किया लेकिन छात्रों ने पुलिस की एक न सुनी और वह अपनी मांगों पर अडे रहे। 
छात्रों ने कहा कि प्रशासन की तरफ से मौके पर कोई अधिकारी आए और उन्हें पूर्णत: इस समस्या के समाधान को लेकर कोई आश्वासन दें, तब जाकर वह जाम खोलेंगे। इसके बावजूद भी पुलिस ने जाम खोलने के लिए छात्रों पर काफी अधिक दबाव बनाया लेकिन उसके छात्रों ने जाम खोलने से मना कर दिया। छात्रों को न मानता देख मौके पर तहसीलदार गुरूदेव सिंह पहुंचे। एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष कृष्ण अत्री ने तहसीलदार को शिक्षा मंत्री, हरियाणा सरकार के नाम एक ज्ञापन सौंपा और अपनी मांग से अवगत कराया। इस पर तहसीलदार ने उनसे सोमवार तक का समय मांगा और जाम खोलने की बात कही। तहसीलदार से आश्वासन मिलने के बाद छात्रों ने जाम खोला।
डीएवी कॉलेज अध्यक्ष कृष्ण शर्मा, उपाध्यक्ष प्राशीष चौहान, जिला महासचिव भरत शर्मा ने संयुक्त रूप से कहा कि हरियाणा भाजपा सरकार पूरी तरह से छात्र विरोधी सरकार है। सरकार की आंखे खोलने के उद्देश्य से छात्र-छात्राओं को पढ़ाई छोडक़र भाजपा के शासनकाल में सडक़ पर धरने प्रदर्शन करने को मजबूर होना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि वह शांतिपूर्वक धरने प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन सरकार व प्रशासन के कान पर जूं तक नहीं रेंग रहे जिससे अब छात्रों में आक्रोश पनप रहा है। 
इस मौके पर भूपेन्द्र प्रजापति, संदीप प्रजापति, राजेश, विशाल शर्मा, मोहित प्रजापति, दानिश खान,  अक्षय, अमन, विकास, सूरज, कपिल, शिवा, निशू, एके नागर, सूरज यादव, विजय, विपुल सेतिया, आकाशदीप तेवतिया, रोहताश तेवतिया, रजत सौरोत, संदीप, सचिन, राहुल, मनोज, विनित, अभिषेक ठाकुर, मोहित तोमर, हरीओम, प्रदीप सेन, आशीष, दीपक, अभिषेक, सुभम, नीरज, पीयूष, चेतन गर्ग, दीपक, अमन, शुभम, आकाश, पवन, रानी, सरिता, पूजा, प्रिंयका, प्रीति, किरण, शालू, भावना, आकांशा, सीमा, शालिनी, गायत्री, पीयूष, नीरज, आशीष, अभिषेक, अभिमन्यू, आलोक, अविनाश सहित अनेक छात्र-छात्राएं मौजूद रहे। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: