Tuesday, July 26, 2016

पलवल में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की शपथ दिलाई




पलवल, 26 जुलाई,2016(abtaknews.com ) जिला ग्रामीण विकास अभिकरण द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, महिला सशक्तिकरण व स्वच्छ भारत मिशन(ग्रामीण)को गति देने की दिशा में महिलाओं की भागीदारी को विस्तार  देने के लिए पंचायती राज संस्थाओं की महिला प्रतिनिधियों का सम्मेलन आयोजित किया गया। सम्मेलन में स्वच्छता शपथ व बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की शपथ दिलाई गई। स्थानीय महात्मा गांधी सामुदायिक केन्द्र एवं पंचायत भवन में आयोजित महिला सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं की महिला प्रतिनिधियों की सक्रिय भागीदारी से महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए सरकार द्वारा संचालित की जा रही योजनाओं का सही रूप में कार्यान्वयन होगा। महिलाओं की भागीदारी से बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ को भी और अधिक गति मिलेगी। सफाई-स्वच्छता को समाज में अनिवार्य अंग के रूप में स्थापित करने की दिशा में महिलाओं की भागीदारी अत्यंत आवश्यक है। उपायुक्त ने महिला प्रतिनिधियों से कहा कि वे महिलाओं के सशक्तिकरण, बेटी बचाओ-बेटी पढाओ और सफाई-स्वच्छता के कार्यक्रमों व योजनाओं के कार्यान्वयन में अपनी सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करें। 
 अतिरिक्त उपायुक्त एवं जिला ग्रामीण विकास अभिकरण की मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्रीमती अंजू चौधरी ने कहा कि योजनाओं के सफल कार्यान्वयन व बेहतर परिणामों के लिए महिलाओं विशेषकर पंचायती राज संस्थाओं की महिला प्रतिनिधियों की वास्तविक सक्रिय भागीदारी आवश्यक है। महिलाओं के उत्थान एव कल्याण तथा महिला सशक्तिकरण की योजनाओं एवं कार्यक्रमों को सही दिशा में कार्यान्वयन के लिए महिलाओं की भागीदारी आवश्यक है। सफाई-स्वच्छता के अभियान को और अधिक गति दी जानी है। सभी गांवों को खुले में शौचमुक्त करने की दिशा में जिला ग्रामीण विकास अभिकरण द्वारा चलाए गए व्यापक अभियान को और अधिक सफल बनाने के लिए महिला प्रतिनिधि अपनी सक्रिय भागीदारी करें। महिला प्रतिनिधियों को चाहिए कि वे महिलाओं को सफाई-स्वच्छता के लिए और अधिक पे्ररित करें। 
महिला सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए पुलिस अधीक्षक राहुल शर्मा ने महिलाओं की सुरक्षा को पुलिस प्राथमिकता बताते हुए पुलिस विभाग द्वारा दी जा रही सुविधाओं बताया। सिविल सर्जन डॉ. आदित्य स्वरूप गुप्ता ने समाज में कन्या भू्रण हत्या जैसे अत्यंत ही घृणित अपराधिक कृत्य को पूर्ण रूप से समाप्त करने के लिए महिला प्रतिनिधियों से आहवान किया। सिविल सर्जन ने सफाई-स्वच्छता को जीवन शैली का अनिवार्य अंग बताते हुए जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के माध्यम से स्वच्छ भारत मिशन(ग्रामीण)को सफल बनाने की दिशा में महिलाओं विशेषकर महिला प्रतिनिधियों की भागीदारी पर बल दिया। जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी दीपक यादव ने योजनाओं के बेहतर कार्यान्वयन के लिए सम्मेलन में उपस्थित ग्राम सचिवों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। बाल संरक्षण अधिकारी श्रीमती सुरेखा डागर ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ विषय पर प्ररेणादायक व्याख्यान दिया। उपमण्डल कृषि अधिकारी ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की विस्तृत जानकारी देेते हुए कहा कि इस योजना का लाभ पहुंचाने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायती राज संस्थाओं की महिला प्रतिनिधि भी सक्रिय रूप से शामिल हों। स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के  सहायक परियोजना अधिकारी नवीन शर्मा ने खुले में शौचमुक्त की अनिवार्यता एवं लाभ के बारे में विस्तृत रूप से योजना के प्रारूप की जानकारी दी। महिला प्रतिनिधि सम्मेलन में महिला जिला पार्षदों, पंचायत समितियों की महिला सदस्यों तथा महिला सरपंचों ने भागीदारी की।  

loading...
SHARE THIS

0 comments: