Tuesday, July 19, 2016

हरियाणा के डी.जी.पी के.पी सिंह का रोहतक बलात्कार मामले में ब्यान



चंडीगढ़, 19 जुलाई,2016 - हरियाणा पुलिस ने हाल ही में रोहतक मेंं लडक़ी के साथ हुए बलात्कार, जो सुखपुरा चौक, रोहतक के निकट एक लडक़ी जाहिर तौर पर नशे में धुत पड़ी मिली थी, की घटना में संलिप्त पांच में से तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किए गये तीन आरोपी नामत: अमित, जगमोहन और संदीप हैं। यह खुलासा आज यहां हरियाणा के पुलिस महानिदेशक श्री के पी सिंह ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए किया। उन्होंने कहा कि जल्द ही शेष दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 
 श्री सिंह ने कहा कि पीडि़त के ब्यान पर पांच युवाओं नामत: अमित, जगमोहन, संदीप, मौसम और आकाश के विरूद्ध गैंग रेप का मामला दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि चौथे आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा और पांचवे आरोपी की पहचान कर ली गई है, यदि पीडि़त लडक़ी उसकी पहचान कर लेती है तो उसे भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि ऐसे मामलों में पुलिस हमेशा से ही गम्भीरता से कार्य करती है और इस मामले में भी यह सुनिश्चित किया गया है तथा कानून के अनुसार सख्त कार्यवाही की जाएगी।   
 घटना के बारे मेें बताते हुए श्री सिंह ने कहा कि 13 जुलाई, 2016 को सुखपुरा चौक, रोहतक के निकट एक लडक़ी जाहिर तौर पर नशे में धुत पड़ी मिली थी। सूचना प्राप्त होते ही पुलिस तत्काल घटना स्थल पर पहुँची और लडक़ी को सिविल अस्पताल, रोहतक में भर्ती करवाया ।  लडक़ी के  ब्यान पर अमित, जगमोहन, संदीप, मौसम और आकाश के विरूद्ध कथित अपहरण और सामुहिक बलात्कार के आरोप में 14 जुलाई, 2016 को भारतीय दंड संहिता की धारा 365,328,323,376डी,506 और एससी/एसटी अधिनियम की धारा 3(2)वी के तहत मामला एफआईआर संख्या 47 पुलिस थाना महिला दर्ज किया गया। जांच के दौरान यह पाया गया की पीडि़ता के परिवार द्वारा थाना शहर भिवानी में अक्तूबर 2013 में कुछ अन्जान व्यक्तियों के विरूद्ध इसी लडक़ी का अपहरण करने के संबंध में एक एफआईआर संख्या 787/2013 भी दर्ज की गई थी। बाद में, लडक़ी ने न्यायिक दंडाधिकारी के समक्ष आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत यह ब्यान दिया कि वह स्वयं चंडीगढ़ गई थी और किसी ने उसका अपहरण नहीं किया था। लेकिन दोबारा कुछ दिनों के अंतराल के बाद परिवार ने जोर दिया कि लडक़ी अपहरण मामले के संबंध में न्यायालय में दूसरा ब्यान देना चाहती है। दंडाधिकारी के समक्ष आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत अपने दूसरे ब्यान में उसने आरोप लगाया कि उसे बिट्टू उर्फ अमित और सुषमा ने लिफ्ट दी थी जो उसे एक अन्जान जगह ले गए, जहाँ अमित ने अपने चार अन्य दोस्तों को बुलाया और उन सभी पांचों ने उसका सामुहिक बलात्कार किया। 
उस मामले में पुलिस ने अमित और जगमोहन का चालान किया और अन्य के विरूद्ध पर्याप्त सबूत उपलब्ध न होने के कारण उन्हें कॉलम नं दो में रखा गया। जांच के दौरान, लडक़ी के परिवार ने धारा 319 के तहत आवेदन करके शेष तीन अभियुक्तों को समन करने और उनसे पुछताछ करने को कहा लेकिन जिला एवं सत्र न्यायालय भिवानी, ने इस आवेदन को रद्द कर दिया। परिवार ने इस आदेश के विरूद्ध पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की है। इसी दौरान अभियुक्त अमित और जगमोहन को अढ़ाई मास पहले न्यायलय से बेल मिल गई।
इसी दौरान लडक़ी द्वारा अमित और जगमोहन सहित पांच व्यक्तियों के विरूद्ध वर्तमान मामला दर्ज करवाया गया है, जिसकी जांच इस कार्य के लिए गठित विशेष टीम द्वारा की जा रही है। जांच के दौरान पांच नामित अभियुक्तों में से तीन नामत: अमित, जगमोहन और संदीप को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने लडक़ी एवं उसके परिवार को न्यायिक दंडाधिकारी के समक्ष आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 164 के तहत अपने ब्यान दर्ज करने को कहा है। बहरहाल जांच जारी हैं और पुलिस कानून और तथ्यों के आधार पर आगे कार्यवाही करेगी।

loading...
SHARE THIS

0 comments: