Tuesday, July 26, 2016

यूपी के भदोही में ट्रेन-स्कूलवैन हादसे में 7 बच्चों की मौत, जाँच समिति गठित

 

                                                 
उत्‍तर प्रदेश-26जुलाई,2016 को सोमवार सुबह भदोही (संत रविदास नगर जिला) में कटका एवं माधो सिंह स्‍टेशनों के बीच स्थित एक मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर ट्रेन संख्‍या 55125 मंडुआडीह-इलाहाबाद सिटी यात्री ट्रेन के इंजन से एक वैन (टाटा मैजिक) टकरा गई। यह दुर्घटना स्‍थल पूर्वोत्‍तर रेलवे जोन के वाराणसी प्रभाग में आता है। बताया जाता है कि इस वैन में स्‍कूली बच्‍चे सवार थे। इस दुर्घटना के परिणामस्‍वरूप सात लोगों की मौत हो गई (ये सभी वैन में सवार थे), जबकि सात लोग घायल हो गए। घायलों को निकटवर्ती अस्‍पतालों में भर्ती कराया गया है। वाराणसी प्रभाग के मंडलीय रेल प्रबंधक के साथ उनके शाखा अधिकारी और डॉक्‍टरों की टीम भी तुरंत दुर्घटना स्‍थल पहुंच गई। स्‍थानीय एम्‍बुलेंस को तत्‍काल सूचना दी गई और दुर्घटना राहत चिकित्‍सा ट्रेन को भी तत्‍काल रवाना करने का आदेश दिया गया। रेलवे के डॉक्‍टर घायलों के इलाज में स्‍थानीय डॉक्‍टरों की मदद कर रहे हैं। डीआरएम वाराणसी घायलों से मिलने के लिए अस्‍पताल भी गए। दुर्घटना स्‍थल पर प्रात: 8:15 बजे सामान्‍य स्थिति बहाल कर दी गई।
आरंभिक रिपोर्ट के मुताबिक, इस बदकिस्‍मत वैन के चालक की लापरवाही के कारण ही यह दुर्घटना हुई। इस मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर तैनात गेट मित्र ने ट्रेन को आते देख इस वैन को पटरियों के पार जाने से रोकने की भरसक कोशिश की। हालांकि, वैन चालक ने इसकी अनदेखी करते हुए वाहन को रेलवे क्रॉसिंग के पार ले जाने की भारी लापरवाही बरती, जिस वजह से यह दु:खद दुर्घटना हुई।मौजूदा मोटर वाहन अधिनियम (धारा 131) के तहत सड़कों पर चलने वाले किसी भी व्‍यक्ति या वाहन के लिए मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग को पार करते वक्‍त पर्याप्‍त सावधानी बरतना अत्‍यंत आवश्‍यक है। धारा 131 में किसी मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग के निकट पहुंच रहे चालकों के लिए कुछ विशेष कर्तव्‍यों का उल्‍लेख किया गया है, ताकि वे जन सुरक्षा का पूरा ध्‍यान रखते हुए अपने वाहन को सुरक्षित ढंग से रेलवे क्रॉसिंग के पार ले जा सकें। धारा 131 के मूल पाठ का उल्‍लेख नीचे किया गया है :-
‘131, किसी भी मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग पर विशेष सावधानियां बरतने के लिए चालक का कर्तव्‍य– किसी भी मानव रहित रेलवे क्रॉसिंग के निकट पहुंचने वाले किसी भी मोटर वाहन के प्रत्‍येक चालक का यह कर्तव्‍य है कि वह अपने वाहन को वहां पर रोके और वाहन का चालक उस पर सवार कंडक्‍टर या क्‍लीनर अथवा सहायक या किसी भी अन्‍य व्‍यक्ति को रेलवे क्रॉसिंग तक जाने और रेल पटरी पर किसी भी तरफ से किसी ट्रेन या ट्रॉली के न आने की सुस्‍पष्‍ट सूचना देने के लिए कहे और फिर उसके बाद ही वह अपने वाहन को रेलवे क्रॉसिंग के पार ले जाए। अगर किसी वाहन पर कोई भी कंडक्‍टर या क्‍लीनर अथवा सहायक या कोई अन्‍य व्‍यक्ति सवार नहीं है, तो उस स्थिति में वाहन को रेलवे क्रॉसिंग के पार ले जाने से पहले चालक खुद अपने वाहन से नीचे उतर कर यह सुनिश्चित करेगा कि रेल पटरी पर किसी भी तरफ से कोई ट्रेन अथवा ट्रॉली नहीं आ रही है।’रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने इस दुर्भाग्‍यपूर्ण एवं दु:खद घटना में निर्दोष लोगों की मौत पर गहरा शोक व्‍यक्‍त किया है। श्री सुरेश प्रभु ने मानवीय आधार पर विशेष संवेदना व्‍यक्‍त करते हुए इस दुर्घटना के शिकार लोगों को अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। यह अनुग्रह राशि मृतकों के मामले में दो लाख रुपये, गंभीर रूप से घायल लोगों के मामले में एक लाख रुपये और आंशिक रूप से घायल लोगों के मामले में बीस हजार रुपये है। इस घटना की जांच के लिए वाराणसी प्रभाग के रेलवे अधिकारियों की एक समिति गठित की गई है।
भारतीय रेलवे इस तरह की दुर्भाग्‍यपूर्ण घटना की पुनरावृत्ति रोकने के लिए जागरूकता अभियान चलाती रही है। नुक्‍कड़ नाटकों का मंचन, मानव रहित रेलवे क्रॉसिंगों पर एवं उसके आस-पास पत्रकों का वितरण, रेलवे क्रॉसिंगों के आस-पास स्थित सड़कों का इस्‍तेमाल करने वालों के मोबाइल फोन पर बड़े पैमाने पर एसएमएस अलर्ट भेजना, विज्ञापन एवं पोस्‍टर लगाना, शै‍क्षणिक संस्‍थानों में विशेष व्‍याख्‍यानों का आयोजन करना इत्‍यादि इस जागरूकता अभियान में शामिल हैं। मानव रहित रेलवे क्रॉसिंगों के इस्‍तेमाल के संबंध में लोगों को संवेदनशील बनाने के लिए समय-समय पर विशेष जागरूकता अभियान भी चलाए जाते हैं। विशेष कदमों के तहत सड़क संकेतकों को लगाना, संपर्क सड़कों की मरम्‍मत करना, ऊंचाई नापने के यंत्र की उपलब्धता, ऊंचाई नापने के यंत्र के ऊपर खतरे के निशान की उपलब्‍धता इत्‍यादि की जांच सुनिश्चित की जा रही है। रेलवे प्रशासन एक बार फिर आम जनता से यह अपील करता है कि वह मानव रहित रेलवे क्रॉसिंगों को पार करते वक्‍त पर्याप्‍त सावधानी अवश्‍य ही बरते।
इस वर्ष के रेल बजट में रेल मंत्री द्वारा की गई घोषणा के मुताबिक, रेल मंत्रालय ने बड़ी लाइनों पर अवस्थित लगभग सभी 6352 मानव रहित रेलवे क्रॉसिंगों को अगले तीन-चार वर्षों में हटाने की कार्य योजना बनाई है। इसके अलावा, रेलवे ने यह भी निर्णय लिया है कि भविष्‍य में सभी रेलवे लाइनों को कुछ इस तरह से बनाया जाएगा कि वे मानव रहित रेलवे क्रॉसिंगों से मुक्‍त होंगी।   

loading...
SHARE THIS

0 comments: